Home > राजधानी मोगादिशू में होटल के बाहर आत्मघाती हमला, 25 लोगों की मौत

राजधानी मोगादिशू में होटल के बाहर आत्मघाती हमला, 25 लोगों की मौत

पुलिस अधिकारी कैप्टन मोहम्मद हुसैन ने बताया कि ऐसा माना जा रहा है कि सरकारी अधिकारियों समेत 20 से ज्यादा लोग फंसे हुए.

 Ekta singh |  2017-10-29 04:49:36.0  |  नई दिल्ली

राजधानी मोगादिशू में होटल के बाहर आत्मघाती हमला, 25 लोगों की मौत

सोमालिया की राजधानी मोगादिशू में एक प्रसिद्ध होटल के बाहर आत्मघाती कार बम धमाके में मरने वालों की संख्या बढ़ गई है. बम धमाके में कम से कम 25 लोगों की मौत हो गई और 30 अन्य घायल हो गए. मरने वालों में सोमालिया पुलिस के एक वरिष्ठ कर्नल और पूर्व सांसद भी शामिल हैं.

इस धमाके के बाद दो और विस्फोट की आवाज सुनी गई. पहला विस्फोट तब हुआ जब हमलावर ने विस्फोट कर खुद को उड़ा लिया. होटल के अंदर से गोलियां चलने की आवाजें आ रही हैं. कुछ मिनट इसी इलाके में दूसरा धमाका हुआ.

पुलिस अधिकारी कैप्टन मोहम्मद हुसैन ने बताया कि ऐसा माना जा रहा है कि सरकारी अधिकारियों समेत 20 से ज्यादा लोग फंसे हुए. सुरक्षा बल राष्ट्रपति आवास के नजदीक नासा-हब्लोद होटल की ऊपरी मंजिल पर छिपे आतंकवादियों से लड़ रहे हैं. हुसैन ने बताया कि पहली मंजिल पर पांच में से दो हमलावर मारे गए

अफ्रीका के सबसे खतरनाक इस्लामी चरमपंथ संगठन अल-शबाब ने हमले की जिम्मेदारी ली है. होटल जहां स्थित है वह इलाका

राष्ट्रपति भवन के करीब है.राजनेताओं और मोगादिशु के अभिजात वर्ग के लोगों को इस इलाके में अक्सर आना-जाना होता है.

बता दे इस घटना के बाद विश्व भर के नेताओं ने हमले की आलोचना की थी. अमेरिका, लंदन और फ्रांस के नेताओं ने सोमालिया आत्मघाती हमले की कड़े शब्दों में निंदा की. अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में वाशिंगटन सोमालिया सरकार, वहां के लोगों और अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के साथ बना रहेगा. हम शांति, सुरक्षा और समृद्धि हासिल करने के उनके प्रयासों का समर्थन करते रहेंगे.

वही फ्रांस के राष्ट्रपति एमैलुएल मैक्रों ने ट्वीट किया कि सोमालिया के साथ एकजुटता से खड़े हैं. इस्लामिक आतंकवादी समूहों के खिलाफ अफ्रीकी संघ का समर्थन करते हैं. फ्रांस आपके साथ खड़ा है.

दो सप्ताह पहले मोगादिशु की एक अति व्यस्त सड़क पर ट्रक बम धमाके में 350 से अधिक लोगों की मौत हो गई था. यह इस देश में अब तक का सबसे बड़ा हमला था.


Tags:    
Share it
Top