Home > कुर्दिस्तान में होने वाले जनमत संग्रह को अमेरिका ने नकारा

कुर्दिस्तान में होने वाले जनमत संग्रह को अमेरिका ने नकारा

 Majid Khan |  2017-09-30 09:55:14.0  |  कुर्दिस्तान

कुर्दिस्तान में होने वाले जनमत संग्रह को अमेरिका ने नकारा

क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय विरोधों के बावजूद 25 सितंबर को मसऊद बारेज़ानी के आग्रह पर कुर्दिस्तान में जनमत संग्रह आयोजित हुआ. अमेरिका के विदेशमंत्री रेक्स टिलरसन ने बल देकर कहा है कि इराक के कुर्दिस्तान क्षेत्र में होने वाले जनमत संग्रह के परिणामों को वाशिंग्टन मान्यता नहीं देता है.

इसी बीच संयुक्त राष्ट्रसंघ के महासचिव के प्रवक्ता स्टिफेन दुजैरिक ने भी कहा है कि यह संघ इराक के कुर्दिस्तान क्षेत्र में होने वाले जनमत संग्रह के परिणामों को मान्यता नहीं देता है। उन्होंने स्पष्ट किया कि राष्ट्रसंघ इराक की एकता व संप्रभुता पर बल देता है।

संयुक्त राष्ट्रसंघ के महासचिव, क्षेत्र के देश, यूरोप और अमेरिका ने भी इराक के कुर्दिस्तान क्षेत्र के प्रमुख मसऊद बारेज़ानी की कार्यवाहियों की भर्त्सना की है और इराक से अलग होने के लिए कुर्दिस्तान क्षेत्र में कराये जाने वाले जनमत संग्रह को इराकी संविधान के खिलाफ बताया है और साथ ही इस जनमत संग्रह के परिणामों को रद्द करने के साथ इराक की एकता व एकजुटता और संप्रभुता पर बल दिया है।

ज्ञात रहे कि क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय विरोधों के बावजूद 25 सितंबर को मसऊद बारेज़ानी के आग्रह पर कुर्दिस्तान में जनमत संग्रह आयोजित हुआ। मसऊद बारेज़ानी का यह कदम इराकी संविधान का उल्लंघन है.

Tags:    
Share it
Top