Top
Home > राज्य > महाराष्ट्र > मुम्बई > अभी बच्चा नहीं चाहता था पत‍ि, बेटे को जन्म देकर लेडी अफसर ने दी जान

अभी बच्चा नहीं चाहता था पत‍ि, बेटे को जन्म देकर लेडी अफसर ने दी जान

महिला ने पटना से मुंबई आकर पहले बच्चे को जन्म द‍िया और फ‍िर मौत को गले लगा ल‍िया

 Special Coverage News |  26 Jun 2019 12:15 PM GMT  |  दिल्ली

अभी बच्चा नहीं चाहता था पत‍ि, बेटे को जन्म देकर लेडी अफसर ने दी जान
x

इंश्योरेंस सेक्टर की एक मह‍िला प्रशासन‍िक अफसर ने पत‍ि की हरकतों से तंग आकर शादी के 19 महीनों बाद मौत को गले लगा ल‍िया. पत‍ि चाहता था क‍ि वह गर्भपात करा ले लेक‍िन वह बच्चे को जन्म देना चाहती थी. इसी प्रताड़ना से तंग आकर उसने पटना से मुंबई आकर पहले बच्चे को जन्म द‍िया और फ‍िर मौत को गले लगा ल‍िया. सुसाइड नोट में उसने पत‍ि और उसके पर‍िजनों को खुदकुशी के लिए ज‍िम्मेदार ठहराया. घटना के बाद सभी आरोपी फरार हैं.

पटना सिटी में रहने वाली ज्योत‍ि बाला की शादी नवंबर 2017 में सालिमपुर अहरा के रहने वाले विमल वर्मा से हुई थी. ज्योत‍ि बाला, द न्यू इंड‍िया इंश्योरेंस कंपनी ल‍िम‍िटेड में प्रशासन‍िक अध‍िकारी थीं. विमल, बैंक ऑफ बड़ौदा में बतौर प्रबंधक यूपी के सुल्तानपुर में काम करता है. 9 जून को महाराष्ट्र के बसई में ज्योति ने अपनी बहन के घर फांसी लगा ली.

सुसाइड नोट के आधार पर महाराष्ट्र पुलिस ने ज्योति के पति विमल वर्मा, ससुर विजय वर्मा, सास मीरा शरण व अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. मृतका ने अपने पति और ससुरालवालों की प्रताड़ना को खुदकुशी की वजह बताया था.




पति और ससुरालवालों की तलाश में महाराष्ट्र पुलिस ने सालिमपुर अहरा स्थित ससुराल, इलाहाबाद बैंक में कार्यरत ननद और पीएचईडी में कार्यरत ननदोई तक पहुंचने की कोशिश की लेक‍िन घर पर ताला बंद मिला. ग‍िरफ्तारी से बचने के ल‍िए कार्यालयों में इनकी छुट्‌टी का आवेदन दिखाया गया.

मृतका के परिजनों के मुताबिक, शादी के कुछ दिन बाद से ही पति और ससुराल वाले ज्योति को प्रताड़ित करने लगे थे. पति उससे बात तक नहीं करता था. गर्भवती होने पर पति उस पर गर्भपात कराने के लिए दबाव बना रहा था, लेकिन उसने अपने मायके जाकर तीन माह पहले एक बेटे को जन्म दिया था. कुछ दिन पहले ज्योति को महाराष्ट्र में रहने वाली उसकी बहन अपने साथ ले गई थी, ताकि उसका मन थोड़ा संभल सके. लेक‍िन वहां ज्योत‍ि ने खुदकुशी कर ली.




पटना में बीमा कंपनियों से जुड़ी महिलाओं की मानें तो ज्योति बेहद टैलेंटेड थी, जिसके कारण उसने विभागीय परीक्षाओं में भी तेजी से सफलता हासिल की थी. सभी उसकी खुदकुशी से दुखी हैं. सुसाइड नोट में ज्योति ने अपने अबोध बच्चे के लिए न्याय की गुहार भी लगाई है.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it