Top
Home > राज्य > महाराष्ट्र > मुम्बई > PMC बैंक के खाताधारकों ने आरबीआई के साथ की बैठक, खाताधारकों ने केंद्रीय बैंक को 30 अक्टूबर तक का वक्त दिया

PMC बैंक के खाताधारकों ने आरबीआई के साथ की बैठक, खाताधारकों ने केंद्रीय बैंक को 30 अक्टूबर तक का वक्त दिया

पीएमसी बैंक के खाताधारकों ने मंगलवार को आरबीआई के गवर्नर से मुलाकात की। मुलाकात के दौरान गवर्नर ने कहा कि खाताधारकों का पैसा सुरक्षित है और वह इस मामले की खुद निगरानी कर रहे हैं।

 Special Coverage News |  22 Oct 2019 12:23 PM GMT  |  दिल्ली

PMC बैंक के खाताधारकों ने आरबीआई के साथ की बैठक, खाताधारकों ने केंद्रीय बैंक को 30 अक्टूबर तक का वक्त दिया
x

मुंबई : घोटाले के कारण भारी वित्तीय संकट का सामना कर रहे पंजाब ऐंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (PMC) बैंक के प्रदर्शनकारी खाताधारकों की भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के साथ बैठक खत्म हो गई है। बैठक के दौरान आरबीआई ने कहा कि खाताधारकों का पैसा सुरक्षित है और केंद्रीय बैंक के गवर्नर इस मामले की खुद निगरानी कर रहे हैं। आरबीआई ने कहा है कि वह इस मामले की जानकारी केंद्र सरकार को देगा, साथ ही वह इसपर 27 अक्टूबर को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगा।

खाताधारकों ने मंगलवार को बैठक के बाद बताया कि उनकी आरबीआई से 19 बिंदुओं पर चर्चा हुई और उन्होंने मामले को सुलझाने के लिए केंद्रीय बैंक को 30 अक्टूबर तक का वक्त दिया है। RBI ने छह महीने के लिए बैंक से पैसे निकालने की 40 हजार की ऊपरी सीमा तय कर दी है, जिसके कारण ग्राहकों की मुसीबतें बढ़ रही हैं। हालत यह है कि खाते में पैसे होते हुए लोग अपने बच्चों की स्कूल फीस से लेकर इलाज तक का खर्च नहीं जुटा पा रहे हैं। यही नहीं, इस संकट के कारण अब तक बैंक के चार खाताधारकों की जान जा चुकी है।

जीवनभर की कमाई डूबने का डर

बैंक के ग्राहकों को उनकी जीवनभर की कमाई डूबने का डर सताने लगा है, जिसे उन्हें अपने बचत खाते और एफडी के रूप में बैंक में जमा कर रखा है। मुंबई के एक कारोबारी एम. ए. चौधरी बताते हैं कि पीएमसी बैंक द्वारा जारी चेक बाउंस करने की वजह से वह न तो अपने कर्मचारियों को सैलरी दे पा रहे हैं और न ही बिजली बिल भर पा रहे हैं।

एसएमएस भेज बैन के बारे में बताया

बैंक के मैनेजिंग डायरेक्टर जॉय थॉमस ने बैंक पर लगी पाबंदियों के बारे में ग्राहकों को एक एसएमएस भेजा था, जिसमें कहा गया था कि वे छह महीने में केवल एक हजार रुपये की ही रकम अपने खाते से निकाल सकते हैं। इसके बाद उन्हें बैंक के साथ घोटाला करने वाली कंपनी हाउजिंग डिवेलपमेंट ऐंड इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (HDIL) के प्रमोटरों राकेश तथा सारंग वधावन के साथ कथित फर्जीवाड़े के मामले में गिरफ्तार कर लिया गया था।

क्या है पीएमसी बैंक घोटाला?

पंजाब व महाराष्ट्र कोऑपरेटिव (PMC) बैंक में फाइनैंशल फ्रॉड लगभग एक दशक से चल रहा था। जांच कर रहे अधिकारियों का कहना है कि जॉय थॉमस की अगुआई में बैंक मैनेजमेंट ने कंस्ट्रक्शन कंपनी HDIL को फंड दिलाने के लिए हजारों डमी अकाउंट खोले हुए थे। यह खेल करीब 10 साल से चल रहा था। रेगुलेटर को शुरुआत में पता चला कि थॉमस और मैनेजमेंट के कुछ लोगों ने मिलकर 4,226 करोड़ रुपये (बैंक के टोटल लोन का 73% हिस्सा) सिर्फ एक ही कंपनी HDIL को दिए थे, जो अब दिवालिया हो गई है।

ऐसे में इस बैंक का दिवाला पिट गया और आरबीआई ने इसके कामकाज पर रोक लगा दी। उसने डिपॉजिटरों के पैसे निकालने की लिमिट तय कर दी। इसके बाद सामने आया कि घोटाला 4,226 करोड़ का नहीं, बल्कि 4,355 करोड़ रुपये का है। अब सामने आया है कि पीएमसी बैंक लोन घोटाला 6500 करोड़ रुपये से ज्यादा का है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it