Top
Home > राज्य > महाराष्ट्र > मुम्बई > शिवसेना के ढीले पड़े तेवर, कहा- बातचीत नहीं रोकी, अंत तक निभायेंगे गठबंधन धर्म

शिवसेना के ढीले पड़े तेवर, कहा- 'बातचीत नहीं रोकी, अंत तक निभायेंगे गठबंधन धर्म'

शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउतने कहा है कि शिवसेना ने बीजेपी के साथ गठबंधन करके चुनाव लड़ा है। इसलिए वो अंत तक गठबंधन धर्म का पालन करेंगे

 Special Coverage News |  2 Nov 2019 11:22 AM GMT  |  दिल्ली

शिवसेना के ढीले पड़े तेवर, कहा- बातचीत नहीं रोकी, अंत तक निभायेंगे गठबंधन धर्म
x

मुंबई : मुख्यमंत्री पद और आधे-आधे के फार्मूले पर अड़ी शिवसेना का तेवर कुछ नरम पड़ते नजर आ रहे हैं। शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउतने कहा है कि शिवसेना ने बीजेपी के साथ गठबंधन करके चुनाव लड़ा है। इसलिए वो अंत तक गठबंधन धर्म का पालन करेंगे। संजय राउत ने यह भी शिवसेना ने बीजेपी के साथ बातचीत कभी नहीं रोकी और वह गठबंधन धर्म का पालन करेंगे। महाराष्ट्र चुनाव के नतीजों में बीजेपी और उसकी सहयोगी शिवसेना को बहुमत मिला है लेकिन अभी तक दोनों दलों ने औपचारिक बातचीत तक शुरू नहीं की है। वर्तमान महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल 8 नवंबर को पूरा हो रहा है।

शिवसेना के नेता संजय राउत ने कहा, 'सेना ने गठबंधन में रहते हुए विधानसभा चुनाव लड़ा था और हम आखिरी वक्त तक गठबंधन धर्म का पालन करेंगे।' उन्होंने कांग्रेस नेता हुसैन दलवई के कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखने के कदम का भी स्वागत किया है। इस पत्र में दलवई ने कांग्रेस आलाकमान से महाराष्ट्र में शिवसेना के नेतृत्व वाली सरकार के गठन को समर्थन देने की गुजारिश की है। शुक्रवार को संजय राउत ने कहा था कि शिवसेना स्थिर सरकार के गठन के लिए नंबर जुटा सकती है। उन्होंने कहा, 'राज्य में मौजूदा राजनीतिक स्थिति को देखते हुए कहा जा सकता है कि हर कोई एक-दूसरे से बात कर रहा है सिवाय शिवसेना और बीजेपी को छोड़कर।' उन्होंने कहा कि शिवसेना ने सरकार गठन की बातचीत नहीं रोकी .. लेकिन बातचीत शुरू ही नहीं हुई।

एनसीपी चीफ शरद पवार से मुलाकात पर उन्होंने कहा, 'महाराष्ट्र को लेकर कई मुद्दे हैं जिस पर अलग-अलग दल के नेता आपस में बात कर रहे हैं।' बता दें कि गुरुवार को संजय राउत की शरद पवार से मुलाकात के बाद ही महाराष्ट्र में एनसीपी-शिवसेना के गठबंधन की चर्चा शुरू हो गई थी। उधर, महाराष्ट्र कांग्रेस के नेताओं ने भी फुर्ती दिखाते हुए दिल्ली जाकर सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। एनसीपी चीफ पवार ने शुक्रवार को नासिक में कहा था कि जनता ने एनसीपी को विपक्ष में बैठने का जनादेश दिया है इसलिए उनकी पार्टी विपक्ष में ही बैठेगी। उन्होंने सीएम पद को लेकर शिवसेना और बीजेपी के बीच घमासान को बचकाना बताया था।

महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना के सीएम पद को लेकर मचे घमासान के बीच एनडीए में शामिल रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) ने भी बीजेपी का समर्थन किया है। केंद्रीय मंत्री और आरपीआई के अध्यक्ष रामदास आठवले ने कहा कि महाराष्ट्र में सीएम बीजेपी का ही होना चाहिए। रामदास आठवले ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि उन्होंने राज्यपाल से मुलाकात कर सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का मौका देने की गुजारिश की है।

इसके अलावा महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना महायुति के अन्य दलों ने राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी से मुलाकात की। मुलाकात को औपचारिक बताया है, लेकिन कहा जा रहा है कि महायुति के दलों ने राज्यपाल को अवगत कराया है कि उन सभी की आस्था बीजेपी के साथ हैं।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it