Home > Archived > PM मोदी ने जलसंकट, सूखा, शिक्षा, गंगा सफाई, गैस सब्सिडी पर की मन की बात

PM मोदी ने जलसंकट, सूखा, शिक्षा, गंगा सफाई, गैस सब्सिडी पर की 'मन की बात'

 Special News Coverage |  24 April 2016 6:40 AM GMT

PM Modi Mann Ki Baat


नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज रेडियो के जरिये एक बार फिर देशवासियों से 'मन की बात' की। रेडियो पर पीएम के 'मन की बात' कार्यक्रम का यह 19वां संस्करण था।

पीएम ने इस 'मन की बात' के कार्यक्रम में जलसंकट से लेकर सूखा, शिक्षा, गंगा सफाई, गैस सब्सिडी आदि पर बात की। पीएम ने जलसंकट से अपनी बात शुरू की। पीएम ने कहा कि पानी के संकटों से निपटने के लिए सरकारें अपना काम रही हैं, लेकिन इसके लिए नागरिकों के प्रयासों की भी आवश्यकता है। सरकारों के साथ नागरिक भी अच्छा प्रयास करते हैं। शुद्ध पानी देश का विकास तय करता है। पानी का संचय किया जाना चाहिए। यहां किसानों के द्वारा जल संचय के लिए किए गए उपायों की भी पीएम ने सराहना की। मोदी ने लातूर में पानी पहुंचाने के लिए रेलवे की भी सराहना की।


इस दौरान पीएम ने महाराष्ट्र के अहमदनगर का जिक्र किया और कहा कि महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के हिवरे बाजार ग्राम पंचायत ने पानी की समस्या से निपटने के लिए क्रॉपिंग पैर्टन को बदला और पानी ज्यादा उपयोग करने वाली फसलों को छोड़ने का फैसला लिया। उन्होंने पानी की बचत के लिए गन्ने की खेती छोड़ दी। किसानों ने फलों और सब्जियों की खेती शुरू कर दी।

मानसून को लेकर उन्‍होंने कहा कि इस बार राहत भरी खबर है कि इस बार मानसून काफी अच्‍छा होगा। क्या हम गांव-गांव अभियान चला सकते हैं। क्यों न हम इस बार तालाब की मिट्टी गांवों में ले जाएं। इससे मिट्टी की गुणवत्ता बढ़ेगी। हमें पानी को रोकने का प्रयास करना चाहिए। इससे आज भले पानी का संकट है। लेकिन इन प्रयासों से भविष्य में पानी का संकट कम होगा।

इस दौरान पीएम ने गंगा सफाई का जिक्र भी किया और कहा कि सरकार ने गंगा में प्रदूषण को रोकने के लिए कई कदम उठाए हैं। जहां लोकल बॉडीज को स्‍टीमर दिए गए हैं ताकि गंगा में बहते कचरे को साफ किया जा सके वहीं औद्योगिक कचरे से निपटने के लिए काम जारी है। गगां से हमें रोजी-रोटी है, गंगा अभियान के प्रति लोगी की आस्‍था इसमें मददगार होगी। आज गंगा को करोंड़ो भागीरथों की जरूरत है।

स्‍कूली शिक्षा को लेकर महाराष्‍ट्र की एक महिला के फोन का जवाब देते हुए पीएम ने कहा कि देश में स्‍कूल में एडमिशन को लेकर काफी काम हो चुका है लेकिन अब बेहतर शिक्षा पर बात होनी चाहिए। मैं पेरेंट्स से कहूंगा कि वो अपने बच्‍चों से स्‍कूल में होने वाली चीजों के बारे में पूछें, यह भी उन्‍हें क्‍वालिटी एजुकेशन देने में मदद कर सकता है। अब हमें अपना फोकस स्‍कूलिंग की बजाय लर्निंग पर रखना होगा। इसके अलावा स्किल डेवलपमेंट भी महत्‍वपूर्ण है। तकनीक इस मामले में बड़ी भूमिका निभा सकती है।

इस दौरान उन्‍होंने देशभर में 1 करोड़ लोगों द्वारा एलपीजी सब्सिडी छोड़ने के लिए जनता का धन्‍यवाद किया। वहीं उन्‍होंने कहा कि डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम हमेशा ये बात कहते थे कि अख़बार के पहले पन्ने पर सिर्फ़ पॉजिटिव खबरें छापिए। आज कुछ अखबार यह काम कर रहे हैं। पीएम ने सिंहस्‍थ का जिक्र करते हुए कहा कि कुंभ मेला,कुंभ मेला पर्यटन के आकर्षण का भी केंद्र बन सकता है।

24 अप्रैल पंचायती राज्य दिवस का दिन है। ऐसा संयोग है कि 14 अप्रैल को अंबेडकर जंयती से 24 अप्रैल 10 दिन तक ग्रामोयदय से भारत उदय अभियान चलाने का काम किया है। इस अभियान ने कई अच्छे काम किए हैं।

केंद्रीय मंत्री ने यहाँ सुनी 'मन की बात'
रेडि‍यो पर मन की बात के प्रसारण के दौरान गाजि‍याबाद में अमि‍त शाह के अलावा कुल 14 केंद्रीय मंत्री मौजूद रहे। इनमें फूड प्रोसेसिंग मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति फतेहपुर में, मानव संसाधन राज्य मंत्री रामशंकर कठेरिया आगरा में, अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी बागपत में, रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा गाजीपुर में, विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह हापुड़ में, कृषि राज्य मंत्री संजीव बालियान मुजफ्फरनगर में, जल संसाधन मंत्री उमा भारती झांसी में, टेक्सटाइल मंत्री संतोष गंगवार बरेली में, महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी पीलीभीत में, मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी अमेठी में, रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर रायबरेली में, सूक्ष्म एवं लघु उद्योग मंत्री कलराज मिश्र देवरिया में, गृहमंत्री राजनाथ सिंह वाराणसी में उपस्थि‍त रहे।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top