Top
Home > Archived > असहिष्णुता के मुद्दे पर किसी को डरने की जरूरत नहींः मुख्य न्यायाधीश

असहिष्णुता के मुद्दे पर किसी को डरने की जरूरत नहींः मुख्य न्यायाधीश

 Special News Coverage |  6 Dec 2015 6:56 AM GMT

Justice TS Thakur on tolerance

नई दिल्लीः भारत के मुख्य न्यायाधीश टीएस ठाकुर ने भी कह दिया कि देश में असहिष्णुता नहीं है। इस बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस देश में कई धर्मों के लोग रहते हैं। दूसरे धर्मों के लोग यहां आए और फले-फूले, यह हमारी विरासत है। बाकी सब धारणा की बात है।


ऐसे हालात में दिलाया जनता को भरोसा

भारत के मुख्य न्यायाधीश (CJI) ठाकुर ने असहिष्णुता को सियासी मुद्दा बताया। उन्होंने कहा कि असहिष्णुता पर बहस के राजनीतिक आयाम हो सकते हैं, लेकिन जब तक कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए सुप्रीम कोर्ट है, किसी को भी घबराने की जरूरत नहीं है।




भारत हर शख्स के अधिकारों रक्षा करने में सक्षम
सीजेआई ठाकुर ने कहा कि मैं एक ऐसे संस्थान का नेतृत्व कर रहा हूं जो कानून का शासन सुनिश्चित करता है। जब तक कानून है और न्यायपालिका की स्वतंत्रता है, तब तक मुझे लगता है कि हम समाज के हर तबके के हर शख्स के अधिकारों की रक्षा करने में सक्षम हैं।

लोगों से की यह अपील
मुख्य न्यायाधीश ने लोगों से एक अपील भी की है। मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि 'मैं आप लोगों से अपील करता हूं कि आपस में एक-दूसरे के लिए प्रेम रखें।' उन्होंने समाज में वैर भाव कम करने और हर समय सबको मिलजुल रहने का संदेश दिया।


Tags:    
Next Story
Share it