Top
Home > Archived > शिवसेना ने मुलायम से मांगा आज़म खान का इस्तीफ़ा, कहा-हिंदुस्तान की उड़ा रहे धज्जियां

शिवसेना ने मुलायम से मांगा आज़म खान का इस्तीफ़ा, कहा-हिंदुस्तान की उड़ा रहे धज्जियां

 Special News Coverage |  7 Oct 2015 6:16 AM GMT

shiv sena attacks azam khan


नई दिल्ली : दादरी कांड पर संयुक्त राष्ट्र को चिट्ठी लिखने मामले पर यूपी के कैबिनेट मंत्री आजम खान पर शिवसेना भड़क गई है। शिवसेना ने पार्टी के मुखपत्र सामना में आजम खान पर जोरदार हमला करते हुये उनको देशद्रोही तक कह दिया है। सामना में पार्टी ने लिखा है कि आजम ने एक पत्र लिखकर 'UN' यानी संयुक्त राष्ट्र संघ से मांग की है कि मुस्लिमों की दुर्दशा पर वह ध्यान दें। यह एक प्रकार का देशद्रोह है और आजम को देश की किसी भी संवैधानिक पद पर बने रहने का अधिकार नहीं है। निर्वाचन आयोग को चाहिए कि वह उन्हें चुनाव लडने के लिए अयोग्य घोषित करे।


हिंदुस्तान की धज्जि‍यां उड़ाने का काम कर रहे हैं आजम
सामना में सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव पर भी निशाना साधा गया है। संपादकीय के अनुसार ‘अगर मुलायम में जरा भी राष्ट्रभक्ति शेष होगी तो वे आजम खान नाम के मंत्री के ”पार्श्वभाग” पर लात मारकर उसे घर बैठा देंगे।’ संपादकीय के अनुसार दादरी मामले पर आजम खान को इतना शौक है तो सबसे पहले वे अपने मंत्री पद का इस्तीफा देना चाहिए। सामना में पार्टी ने लिखा, ‘आजम खान एक नापाक आदमी की तरह घरेलू विवाद को शीर्ष पर ले जाकर हिंदुस्तान की धज्जि‍यां उड़ाने का काम कर रहे हैं। आजम को इस्तीफा देना चाहिए या फिर यदि मुलायम मे देशभक्ति बची है तो आजम से इस्तीफा मांगे।

गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव बान की मून को आजम ने पत्र लिख के मांग की है कि मुस्लिमों की दुर्दशा पर वह ध्यान दें। दादरी कांड को लेकर यह पत्र लिखा गया था। शिवसेना के अनुसार यह देशद्रोह है और आजम को देश की किसी भी संवैधानिक पद पर बने रहने का अधिकार नहीं है। निर्वाचन आयोग को चाहिए कि वह उन्हें चुनाव लडने के लिए अयोग्य घोषित करे।



style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">




आजम ने पाक में हिंदुओं की दुर्दशा पर क्यों नहीं लिखा पत्र
पाकिस्तान में हिंदुओं पर भयंकर अत्याचार जारी है। हिंदुओं की दुर्दशा पर एकाध पत्र संयुक्त राष्ट्र को लिखकर उस मुद्दे पर आवाज उठाने का काम आजम खान क्यों नहीं करता? पाकिस्तान उठते-बैठते संयुक्त राष्ट्र की ओर दौड़ता है। उसी तरह आजम खान भी संयुक्त राष्ट्र में पत्र भेजते हैं, यह एक प्रकार का देशद्रोह है। आगे लिखा है, "आजम खान नामक उत्तर प्रदेश के विवादास्पद मंत्री ने अब तक तमाम अपराध किए। धर्मांध राजनीति में उसके सारे अपराध पचा लिए गए। किंतु अब इस नापाक आदमी ने घरेलू विवाद को शीर्ष पर ले जाकर हिन्दुस्तान की धज्जियां उड़ाने का काम किया है। मूल बात तो यह है कि आजम खान सनकी आदमी दिखाई देता है।

मक्का में मारे गये मुसलमानों रोना नहीं आया
शिवसेना ने दादरी के मुद्दे पर राजनीति कर रहे नेताओं पर निशाना साधते हुए लिखा है, "दादरी में रहने वाले मोहम्मद अखलाक नामक मुस्लिम व्यक्ति के घर गोमांस का जखीरा रखे होने की अफवाह फैली। इस अफवाह के बाद स्थानीय लोगों के आक्रोश में अखलाक की हत्या हो गई। इस घटना पर तीव्र राजनीतिक प्रतिक्रिया दिखाई दी। सभी धर्मनिरपेक्ष दल और उसके नेता अपने अश्रु बहाते हुए दादरी की ओर दौड़े। उधर मक्का में शैतान को पत्थर मारते समय भगदड़ मची और लगभग एक हजार मुस्लिम श्रद्धालु कीड़े-मकोड़ों की तरह कुचलकर मर गए। मरनेवालों में सैकड़ों मुसलमान हिंदुस्तानी हैं। उस कांड पर एक भी राजनीतिक नेता ने बयान नहीं जारी किया।

मोदी सरकार का किया बचाव
शिवसेना ने लिखा है, "बुनियादी बात है कि इस सारे मामले में भारतीय जनता पार्टी को हिंदुत्ववादी कहकर उसे छेड़ना सर्वथा गलत है। क्योंकि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी शत-प्रतिशत धर्मनिरपेक्ष बनकर सरकार का संचालन कर रही है। स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वचन दिया है कि मुसलमान यदि आधी रात को भी दरवाजा खटखटाएंगे तो हम उनकी मदद के लिए दौड़ेंगे। जब इस तरह का धर्मनिरपेक्ष शासन चल रहा हो तब मुसलमानों पर अत्याचार होने की बांग देकर सीधे संयुक्त राष्ट्र की ओर दौड़ना इस देश और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अपमान है।

href="https://www.facebook.com/specialcoveragenews" target="_blank">Facebook पर लाइक करें
Twitter पर फॉलो करें
एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें




style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">





style="display:inline-block;width:336px;height:280px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="4376161085">


स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it