Top
Home > Archived > दलित बच्चों को जिंदा जलाने के मामले में CBI जांच के आदेश, एक सदस्य को सरकारी नौकरी

दलित बच्चों को जिंदा जलाने के मामले में CBI जांच के आदेश, एक सदस्य को सरकारी नौकरी

 Special News Coverage |  21 Oct 2015 12:28 PM GMT

dalit child


फरीदाबाद/नई दिल्ली : फरीदाबाद में दलित परिवार के बच्चों को जिंदा जला देने के हरियाणा सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है। केंद्रीय जांच एजेंसी अब इस मामले की जांच करेगी। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर सुनपेड का दौरा करने वाले थे लेकिन बाद में मुख्यमंत्री का दौरा टाल दिया गया। बीजेपी के सांसद किशनपाल गुर्जर ने गांव का दौरा किया और पीड़ित परिवार से मिले।




फरीदाबाद में दलित परिवार के बच्चों को जिंदा जला देने की घटना से रोष बढ़ता जा रहा है। दलित समुदाय के लोगों ने बच्चों की लाशों को बल्लभगढ़ में सड़क पर रख कर जाम लगा दिया। उनका कहना है कि जब तक आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होगी तब तक वे बच्चों का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। हालांकि बाद में प्रशासन ने जैसे-तैसे परिजनों को वहां से हटाकर जाम खत्म कराया।

आज कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी दलित परिवार से मिलने पहुंचे। वे गुस्से में नजर आए। मीडिया ने उनसे सवाल किया- आपके विरोधी कह रहे हैं कि आप यहां फोटो-ऑप (फोटो खिंचाने का मौका) के लिए आए हैं? इस पर राहुल भड़क गए। कहा, ''यह बेइज्जत करने जैसा है। यह मेरी नहीं यहां के पीड़ित लोगों की बेइज्जती है। कौन कह रहा है कि यह फोटो-ऑप है? लोगों को यहां जिंदा जलाया गया। लोगों की हत्याएं हो रही हैं। मैं आऊंगा, बार-बार आऊंगा।'

राहुल ने कहा- पीड़ित परिवार को इसलिए दबाया जा रहा है क्योंकि वे गरीब हैं, वे कमजोर हैं। इसलिए उन पर अत्याचार हुआ। प्रशासन उनकी मदद नहीं कर रहा। कुछ दिन पहले यहां के लोग प्रशासन के पास गए तो प्रशासन ने कहा अभी कोई मरा नहीं है ना वापस जाइए।
ऐसी घटनाएं हरियाणा, बाकी हिंदुस्तान में हो रही हैं। उन्होंमे आगे कहा, यहां के सीएम की जिम्मेदारी है। जिन पुलिसवालों ने अपना काम नहीं किया उनके खिलाफ कार्रवाई हो।




वहीं, राहुल गांधी के पीड़ित परिवार से मिलने के बाद बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने निशाना साधा है, उन्होंने पुछा है कि क्या राहुल गांधी को कलावती याद है? क्या उन्हें इस बात की परवाह है कि उसके साथ क्या हुआ। उन्होंने कहा यह जाति आधारित हिंसा नहीं, बल्कि पैसे को लेकर लड़ाई का मामला है।

राहुल गांधी के बाद सुनपेड पहुंचीं सीपीएम नेता वृंदा करात ने सवाल उठाया है कि घटना के वक्त यहां सुरक्षा में लगाए गए पुलिसवाले जागरण क्यों देखने गए थे? उन्होंने आशंका व्यक्त कि है कि इस घटना में पुलिस की मिलीभगत हो सकती है। वृंदा ने कहा,'' सीएम हर जगह जा रहे हैं, उनके प्रदेश में इतनी बड़ी घटना हुई है। क्या वे कुछ देर के लिए यहां नहीं आ सकते थे?''

क्या है मामला :
फरीदाबाद में आने वाले बल्लभगढ़ के सुनपेड गांव में सोमवार-मंगलवार की दरमियानी रात कुछ लोगों ने दलित समुदाय के जितेंद्र के घर में घुसकर पेट्रोल छिड़का और आग लगा दी। फिर बाहर से दरवाजा बंदकर भाग गए। घटना में जितेंद्र के दोनों बच्चों की मौत हो गई। जितेंद्र और उनकी पत्नी झुलस गए। पत्नी का दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में आईसीयू में इलाज चल रहा है।

href="https://www.facebook.com/specialcoveragenews" target="_blank">
Facebook
पर लाइक करें
Twitter पर फॉलो करें
एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें




style="display:inline-block;width:300px;height:600px"
data-ad-client="ca-pub-6190350017523018"
data-ad-slot="8013496687">


स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it