Home > Archived > मैरिटाइम समिट में PM मोदी बोले- कोस्टलाइन बन सकती है देश की तरक्की का इंजन

मैरिटाइम समिट में PM मोदी बोले- कोस्टलाइन बन सकती है देश की तरक्की का इंजन

 Special News Coverage |  14 April 2016 12:49 PM GMT

मैरिटाइम समिट में PM मोदी बोले- कोस्टलाइन बन सकती है देश की तरक्की का इंजन

मुंबई: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को मुंबई में देश के पहले मैरिटाइम इंडिया समिट 2016 का उद्घाटन किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा, भारत की विशाल समुद्री तटरेखा आने वालों वर्षों में निवेश और इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट का प्रमुख केंद्र होगा और देश की ग्रोथ का इंजन बनेगा। उद्घाटन से पहले पीएम मोदी ने बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की 125वीं जयंती पर उनकी प्रतिमा पर हार चढ़ाकर नमन किया। मोदी बोले कि उन्हें खुशी है आज जल परियोजनाओं के मामले में बाबा साहब अंबेडकर की सोच का पालन किया जा रहा है।


समिट के दौरान पीएम मोदी ने भारत की तटीय सीमाओं का जिक्र किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि आयात-निर्यात की मांग पूरी करने के लिए पांच नए बंदरगाहों की स्थापना की जाएगी, बंदरगाहों के विकास के लिए एक लाख करोड़ रुपए जुटाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि भारत की तटीय सीमाएं कई देशों से लगती हैं। यही तटीय सीमाएं भारत के विकास का इंजन बनेंगी।

उन्होंने ग्लोबल इंवेस्टर्स को भारत में निवेश के लिए आमंत्रित किया। उद्घाटन समारोह में पीएम मोदी ने निवेशकों से कहा कि यह भारत के समुद्री क्षेत्र में निवेश करने का सही समय है। अगर आप भारत में निवेश करना चाहते हैं तो मैरिटाइम सेक्टर में करिए। पीएम मोदी ने कहा कि सरकार एक लाख करोड़ का निवेश जुटाना चाहती है। उन्होंने कहा कि भारतीय बंदरगाहों की क्षमता को 140 करोड़ टन से बढ़ाकर 2025 तक 300 करोड़ टन तक पहुंचाने का लक्ष्य है। उन्होंने निवेशकों से बंदरगाहों के विकास में साथ देने की अपील की। आईएमएफ और वल्र्ड बैंक ने भी हाल ही में भारत में अच्छे दिन आने के संकेत दिए थे।

उन्होंने कहा कि देश के मैरिटाइम सेक्टर परिवहन का सबसे बड़ा स्रोत बन सकता है। साथ ही यह इको-फ्रेंडली भी है। हालांकि पीएम ने यह भी कहा कि हमे यह ध्यान रखने की जरूरत है कि हमारी जीवनशैली, ट्रांसपोर्ट सिस्टम और व्यापार के तरीकों से समुद्रों, महासागरों की सेहत पर बुरा असर न पड़े। यह पहली बार है जब भारत इतने बड़े पैमाने पर किसी वैश्विक समिट का आयोजन कर रहा है। मोदी ने कहा कि बीआर अंबेडकर ने हमेशा नई जल परियोजनाओं पर जोर दिया जिससे भारत के करोड़ों गरीबों तक पानी पहुंचाया जा सके।

पीएम ने कहा कि उनकी सरकार का यह कोशिश कर रही है कि ग्लोबल मैरिटाइम सेक्टर में भारत की स्थिति को मजबूत किया जाए। इसके लिए मोदी ने समिट में मौजूद वैश्विक व्यापार समुदाय से अपील की कि वे भारत के बंदरगाहों के विकास में भारत सरकार की मदद करे।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top