Home > Archived > PM मोदी ने लॉन्च किया 'स्टैंड अप इंडिया' 5100 ई-रिक्शा का वितरण किया गया

PM मोदी ने लॉन्च किया 'स्टैंड अप इंडिया' 5100 ई-रिक्शा का वितरण किया गया

 Special News Coverage |  5 April 2016 1:58 PM GMT

PM मोदी ने लॉन्च किया 'स्टैंड अप इंडिया', 5100 ई-रिक्शा का वितरण किया गया

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को नोएडा में 'स्टैंड अप इंडिया' योजना का उद्घाटन किया। इस मौके पर पीएम के साथ गृह मंत्री राजनाथ सिंह और वित्त मंत्री अरुण जेटली भी मौजूद थे। पीएम मोदी ने कहा कि ईश्वर ने जो शक्ति, सामर्थ्य और हुनर उन्हें दिया है, वही शक्ति, सामर्थ्य और हुनर और दलित भाइयों को भी दिया है लेकिन उन्हें अवसर नहीं मिला है। समाज के हाशिए पर खड़े व्यक्ति को अवसर मिलना चाहिए उसे किसी की कृपा पर नहीं रहना चाहिए। पीएम ने कहा कि देश के विकास में दलित योगदान दे सकते हैं।


पीएम मोदी उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक के साथ ई-रिक्शा पर सवार होकर कार्यक्रम में पहुंचे। पीएम मोदी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि इस योजना के तहत बैंक के प्रत्येक ब्रांच अपने क्षेत्र में एक दलित, एक महिला और एक आदिवासी को लोन देंगे। पीएम मोदी ने कहा कि यह योजना दलितों की जिंदगी में काफी बदलाव लाएगी। पीएम ने कहा आज बाबू जगजीवन राम की जयंती हैं, बाबू जगजीवन राम मेरिट के पक्ष में थे। सरकार इस योजना के तहत 2.5 लाख दलित उद्यमी तैयार करेगी। इस योजना के तहत 5100 ई-रिक्शा का वितरण किया गया। कल तक जो अपना ज्यादातर कमाई रिक्शे के मालिक को किराये देने में जाता था। आज वो ई-रिक्शा का मालिका बन जायेंगे।

ई-रिक्शे पर सवारी से पहले पीएम मोदी ने रिक्शा पाने वालों से मिले और उनके साथ चाय पर चर्चा की। पीएम मोदी के साथ उत्तर प्रदेश के राज्यपाल रामनाईक और केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने ई-रिक्शे की सवारी की। पीएम के मंच पर भाजपा के 17 दलित सांसद मौजूद थे।

इस योजना के तहत बैंक अनुसूचित जाति, जनजाति तथा महिला उद्यमियों को 10 लाख रुपए से एक करोड़ रुपये तक का कर्ज देंगे। प्रधानमंत्री ने इस मौके पर स्टैंड अप इंडिया के वेब पोर्टल की शुरुआत भी की। इस योजना से बड़ी संख्या में ऐसे उद्यमियों को लाभ मिलने की संभावना है।

अपने भाषण के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वित्त मंत्री अरुण जेटली की जमकर प्रशंसा की। उन्‍होंने इस मौके पर विजय माल्या का बिना नाम लिये उनपर हमला बोला, उन्होंने कहा, बैंक का पैसा लेकर लोग भागने के बारे में सोचते हैं, वहीं गरीबों ने धन जन योजना के तहत बैंक अकाउंट खोला तो उसमें पैसा डाला, ये हमारे देश के गरीबों की अमीरी है।

इस दौरान वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सरकार ने पहले यह जानने की कोशिश की कि देश में कितने लोग बैंक से जुड़े हुए हैं। सरकार का पहला अभियान था कि प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत हर व्यक्ति को बैंक के माध्यम से उस योजना से जोड़ दिया जाये। सरकार का दूसरा उद्देश्य सबके लिए बीमा और पेंशन था। इन्हीं खातों के माध्यम से जब बीमा योजना चलीं तो आज 12 करोड़ 35 लाख को एक साल में बीमा योजना से जुड़ चुके हैं।

Tags:    
Share it
Top