Home > Archived > जेएनयू प्रदर्शन को हाफिज का समर्थन, इस पर न करे राजनीती : राजनाथ सिंह

जेएनयू प्रदर्शन को हाफिज का समर्थन, इस पर न करे राजनीती : राजनाथ सिंह

 Special News Coverage |  14 Feb 2016 10:19 AM GMT

जेएनयू प्रदर्शन को हाफिज का समर्थन, इस पर न करे राजनीती : राजनाथ सिंह

नई दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) विवाद और तूल पकड़ता जा रहा है। इसी बीच गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मामले को आतंकी हाफिज सईद से जोड़ दिया है। उन्होंने आज कहा कि JNU में जो भी हुआ उसे लश्‍कर के आतंकवादी हाफिज सईद का समर्थन प्राप्त हुआ है, जो कि काफी दुर्भाग्यपूर्ण है। सभी लोग ऐसे वक्त में राष्ट्र की एकता के समर्थन में सामूहिक स्वर बुलंद करें, सियासत नहीं।

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि हाफिज सईद ने इस घटना का जो समर्थन किया है वह दुर्भाग्यपूर्ण है और समूचे देश को इस बारे में गंभीरता से सोचना चाहिए। उन्होंने इस मुद्दे पर विपक्षी पार्टियों को नसीहत देते हुए कहा है कि वह देशद्रोह जैसी घटना का सियासी फायदा लेने की कोशिश न करें।


गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सभी संगठनों और सियासी पार्टियों से अपील की है कि वह देश के खिलाफ होने वाली घटना को अपने फायदे नुकसान के नजरिये से न देखें और इस मुद्दे पर एकजुट होकर देश का समर्थन करें। उनके मुताबिक़ देश से जुड़े सवाल पर सियासत करने के बजाय सब को साथ खड़े होना चाहिए। राजनाथ सिंह ने फिर दोहराया है कि जेएनयू की घटना में दोषी लोगों को कतई बख्शा नहीं जाएगा और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने भरोसा दिलाया है कि दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई तो होगी, लेकिन किसी भी निर्दोष का उत्पीड़न नहीं होने दिया जाएगा।

जेएनयू में देशद्रोह के मामले में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल से जांच कराई जा सकती है। गृहमंत्री रविवार को दोपहर में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी के आवास पर उनकी पत्नी के देहान्त पर शोक संवेदना प्रकट करने आए थे। इस दौरान मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए गृहमंत्री ने यह बात कही। इस सवाल पर कि कई संगठन ऐसा आरोप लगा रहे हैं कि जेएनयू में राष्ट्रविरोधी नारे लगाने के नाम पर निर्दोष लोगों को गिरफ्तार किया गया है? सिंह ने कहा कि भारत की एकता अखंडता पर सवालिया निशान लगाने की किसी भी कोशिश को हमारी सरकार बरदाश्त नहीं करेगी।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top