Home > Archived > आरके पचौरी पर यौन उत्पीड़न का एक और आरोप

आरके पचौरी पर यौन उत्पीड़न का एक और आरोप

 Special News Coverage |  11 Feb 2016 11:54 AM GMT

आरके पचौरी पर यौन उत्पीड़न का एक और आरोप

नयी दिल्ली: टेरी में हाल ही में एग्जीक्यूटिव वाइस चेयरमैन बनाए गए आरके पचौरी नई मुश्किल में फंस गए हैं। टेरी की एक और पूर्व महिला कर्मचारी ने उन पर सेक्शुअल हैरेसमेंट के आरोप लगाए हैं। महिला ने पचौरी की नियुक्ति पर भी सवाल खड़े किए हैं

यौन उत्पीडन के आरोपों को लेकर कानूनी लडाई लड रहे आर.के. पचौरी के लिए संकट बढ गया है. टेरी की एक अन्य पूर्व कर्मचारी ने बुधवार को सरेआम इसी तरह के आरोप लगाए और साथ ही कार्यकारी उपाध्यक्ष के तौर पर उनकी ताजा नियुक्ति को रोकने की मांग की गई है. पचौरी ने 10 साल से अधिक समय पहले जिस महिला को कथित तौर पर आपत्तिजनक इशारे किए थे, उसने उच्च पद पर पचौरी की नियुक्ति की आलोचना की जिन्हें दो दिन पहले ही कार्यकारी उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है.


मामले का ब्योरा देते हुए महिला की वकील वृंदा ग्रोवर ने कहा कि उसने पिछले साल फरवरी में पहली बार पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराई थी जिसने कुछ नहीं किया. इससे उसे सार्वजनिक रुप से सामने आने को विवश होना पडा. महिला ने कहा, ‘‘पचौरी ने उसे अपने कार्यालय कक्ष में बार-बार बुलाने के लिए काम का बहाना बनाया जबकि वहां असल में ऐसा कोई काम नहीं था जिस पर चर्चा की जरुरत हो.' संपर्क किए जाने पर पचौरी के वकील आशीष दीक्षित ने कहा कि उन्होंने दूसरी शिकायत को नहीं देखा और वह टिप्पणी नहीं कर सकते. पचौरी टेरी की एक अन्य कर्मचारी के यौन उत्पीडन के आरोपों को लेकर दिल्ली उच्च न्यायालय में पहले से ही एक मामले का सामना कर रहे हैं.

वहीं आर के पचौरी ने सभी आरोपों को बेबुनियाद करार दिया है. उन्होंने कहा कि आरोप लगाने वाली महिला शैक्षणिक गतिविधियों के चलते देश से बाहर थी. महिला के आरोप दुर्भावना और स्वार्थ से प्रेरित हैं.

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है, ‘‘टेरी में मेरे शामिल होने और पचौरी से बातचीत शुरू होने के शीघ्र बाद उन्होंने मेरा एक अभद्र नाम दिया. उन्होंने कहा कि यह मेरे आधिकारिक नाम से ही लिया गया है और यह मेरे लिए कहीं बेहतर रुप से उपयुक्त होगा.' महिला साल 2003 में टेरी में शामिल हुई थी और उस वक्त पचौरी महानिदेशक थे. उसने आरोप लगाया, ‘‘मैंने वहां एक साल से अधिक समय तक काम किया. मेरी नौकरी में मेरा काम ही कुछ इस तरह का था कि मुझे विभिन्न मौकों पर उनसे व्यक्तिगत रुप से बात करने की जरुरत थी. वह अक्सर मुझे फोन किया करते या उनकी सचिव मुझे फोन करती.' उसकी शिकायत के मुताबिक उन्होंने संगठन के प्रशासनिक निदेशक के समक्ष यह मुद्दा उठाया था जिन्होंने उसके आरोपों पर यकीन करने से इनकार कर दिया था.

महिला ने आरोप लगाया, ‘‘मैंने ‘सर्विसेज एंड टेरी प्रेस' के तत्कालीन निदेशक एवं पचौरी के करीबी सहयोगी कोमोडोर जोशी से शिकायत की. उन्होंने मेरी बात मानने से इनकार करते हुए कहा कि मैंने उनकी गर्मजोशी को गलत समझ लिया और ऐसी चीजें कभी नहीं दर्ज की गई तथा मुझसे वहीं पर मामले को खत्म करने का अनुरोध किया गया.' महिला ने यह भी दावा किया कि जब उसने इस्तीफा दिया तो पचौरी ने उसे धमकी दी कि वह उसे कहीं और नौकरी नहीं पाने देंगे. उसने शिकायत में कहा है, ‘‘ पचौरी ने धमकी दी कि हवाईअड्डे से लेकर शहर तक मैं जहां भी जा रही हूं, उनके मित्र हर जगह हैं और वे देखेंगे कि मैं उनके रोजगार को कैसे छोडती हूं.'

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top