Top
Home > Archived > BJP को कीर्ति आज़ाद जैसा ईमानदार नेता नहीं खोना चाहिए : सुब्रमण्यन स्वामी

BJP को कीर्ति आज़ाद जैसा ईमानदार नेता नहीं खोना चाहिए : सुब्रमण्यन स्वामी

 Special News Coverage |  24 Dec 2015 7:25 AM GMT

Kirti Azad Submranian Swamy



नई दिल्ली : डीडीसीए में भ्रष्टाचार के मुद्दे पर अब भाजपा के सांसद सुब्रमण्यन स्वामी सांसद कीर्ति आजाद के पक्ष में खुलकर सामने आ गए हैं। उन्होंने आजाद के निलंबन को गलत बताते हुए कहा कि पार्टी से किसी भी ईमानदार सांसद को इस तरह निकलना गलत है। वो पार्टी को जवाब देने में आज़ाद की मदद करेंगे।

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि बीजेपी को कीर्ति आज़ाद जैसे इमानदार आदमी को नहीं खोना चाहिए। सुब्रमण्यम के इस बयान के बाद से सियासी गलियारे में एक बार फिर चहल कदमी का दौर तेज हो गया है, क्योकि बीजेपी के नेता स्वामी के बयान के मायने को समझते है वो जानते है कि स्वामी अगर इस तरह की बयानबाजी कर रहे है तो इसके खिलाफ आगे बड़े स्तर पर बोलना शुरू कर देंगे।


कीर्ति ने कहा कि उन्हें पार्टी की तरफ से नोटिस मिला है और वो उसका जवाब देंगे। उन्होंने बताया कि सुब्रमण्यम स्वामी जवाब देने में उनकी मदद करेंगे। उन्होंने कहा, 'मैं शाम तक पार्टी को जवाब दूंगा।' इस बारे में पूछे जाने पर स्वामी ने कहा, 'मैं इस बात की पुष्टि करता हूं कि ड्राफ्ट नोटिस तैयार करने में कीर्ति आजाद की मदद करूंगा। मैं उन्हें तब से जानता हूं, जब वो नौजवान थे। मैं उनके पिता का अच्छा दोस्त रहा। इसके आगे मैं यही कहूंगा कि वो अब भी बीजेपी के सदस्य हैं। मुझे उनकी मदद करने का पूरा अधिकार है। मुझे नहीं लगता कि पार्टी को ऐसे ईमानदार इंसान को खोना चाहिए।'

निलंबन के बाद मीडिया के सामने आए कीर्ति आजाद ने कहा कि मैंने कोई पार्टी विरोधी गतिविधि नहीं की। मैं 9 साल से इस मुद्दे को उठा रहा हूं। अगर कोई जिम्मेदार है तो वो पार्टी स्वयं है। जो सच बोलता है वो बाहर होता है. अब मैं बताता हूं। मैंने व्यक्तिगत किसी के खिलाफ नहीं बोला। ये पार्टी के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है कि मुझे हटाया गया।


कीर्ति ने पीएम नरेंद्र मोदी से अपने निलंबन की वजह पूछी है। उन्होंने कहा, 'मैं पीएम नरेंद्र मोदी से कहना चाहता हूं कि उन्हें सामने आकर सामने आकर बताना चाहिए कि मेरा कसूर क्या है। मैं जानना चाहता हूं कि क्या मुझे इसलिए निलंबित किया गया है कि मैंने डीडीसीए में भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाई है। क्या मुझे इसलिए निलंबित किया गया है कि मैंने बीसीसीआई में भी भ्रष्टाचार के अन्य मामलों में आवाज उठाई थी। मैं उचित जवाब चाहता हूं. पार्टी को साफ करना चाहिए कि मैंने किनके साथ सांठ-गांठ की है। मार्ग दर्शक मंडल और वरिष्ठ नेताओं को इस मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it