Home > Archived > उन्नावः पुलिस क्यों किसी लाश को अपहर्त विनोद से जोड़ रही है

उन्नावः पुलिस क्यों किसी लाश को अपहर्त विनोद से जोड़ रही है

 Special News Coverage |  28 April 2016 2:28 AM GMT

984d389b-e6db-4eda-9be6-c572ec594182
उन्नाव जितेंद्र मिश्रा
तारीख 23 अप्रैल 2016 समय रात्रि 11.30- पौने बारह लगभग पुलिस दल बुलेरो गाडी पर।
बुलेरो औरास के किसी सतीश की पकड़ के नियत संभावित स्थान से लौटता दल आगे आगे मोटर साईकल पर बड़ा भाई आजाद और उसके साथ पीछे बैठा औरास का एक युवक आजाद के मोटर साइकिल के पीछे आजाद का चाचा पीछे चल रही बुलेरो गाडी में पुलिस दल के साथ बैठा था।

उसी दौरान आसीवन थाना अंतर्गत किसी गॉव के सामने खड़े लोडर से टकराया भाई आजाद जो पुलिस के साथ अपने अपहृत भाई विनोद को ढूंढ रहा था।
मोटर साइकिल जा घुसी खड़े लोडर पर दोनों बुरी तरह से घायल दोनों को भेजा गया लखनऊ ट्रामा सेंटर जहाँ आजाद को मृत पाया गया दूसरा अभी भी ट्रामा सेंटर में भर्ती अपह्रत विनोद ( अब मृत ) और आजाद कुल छः भाई है। पिता राम सेवक 65 लगभग जीवित है ।

फिर केशरवानी जी से पूछा जाय कि रेलवे ट्रैक के किनारे पड़ी किस लाश को इस घटना से सम्बद्ध कर रहे है। और इसके पीछे उनका क्या निहतार्थ और प्रयोग है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top