Home > अभी-अभी : जम्मू से लेकर दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर-भारत में तेज भूकंप के झटके, 6.1 की तीव्रता

अभी-अभी : जम्मू से लेकर दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर-भारत में तेज भूकंप के झटके, 6.1 की तीव्रता

दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर-भारत में तेज भूकंप के झटके महसूस किये गए हैं।

 Arun Mishra |  2018-01-31 07:18:08.0  |  दिल्ली

अभी-अभी : जम्मू से लेकर दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर-भारत में तेज भूकंप के झटके, 6.1 की तीव्रता

नई दिल्ली : दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर-भारत में तेज भूकंप के झटके महसूस किये गए हैं। रिएक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 6.1 मापी गई है। भूकंप का केंद्र अफगानिस्तान था। जमीन से 186 किमी नीचे भूकंप का केंद्र था। डर की बजह से लोग घरों और दफ्तर से बाहर निकल आए थे।


जम्मू और पुंछ में भूकंप में तेज झटके महसूस किये गए है। वहीँ, पंजाब हिमाचल और हरियाणा में भी भूकंप के झटके महसूस किये गए हैं।

यूरोपियन मेडिटेरेनियन सिस्मोलॉजिकल सेंटर (EMSC) ने इस भूकंप का केंद्र अफगानिस्तान के हिंदकुश में जमीन से 186 किलोमीटर नीचे बताया है। भूकंप की तीव्रता 6.2 मापी गई है। दिल्ली में जैसे ही लोगों ने झटके महसूस किए, लोग सड़कों पर आ गए।

वहीं श्रीनगर में भी लोग अपने-अपने घरों से निकलकर सड़कों पर आ गए। श्रीनगर में लोगों ने करीब 15 से 20 सेकेंड तक इन झटकों को महसूस किया।

राहत की बात यह है कि अभी तक कहीं से भी किसी भी तरह की हताहत की खबर नहीं आई है। भूकंप का केंद्र धरती से 186 किमी नीचे था, इसलिए इसके झटके भारत में भी महसूस किए गए। केंद्र धरातल से जितना ज्यादा गहराई में होता है, भूकंप का असर उतना ही ज्यादा देखने को मिलता है।

दिल्‍ली के ये इलाके नहीं झेल पाएंगे भूकंप के झटके!
हाल ही में केंद्र सरकार ने उन शहरों की सूची जारी की थी, जो भूकंप के लिहाज से सबसे खतरनाक जोन 5 और 4 में आते हैं. राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली अधिक तीव्रता वाले जोन 4 में आती है। जहां रिक्‍टर पैमाने पर 8 तीव्रता वाला भूकंप आ सकता है।

इसके आसपास कई बड़े भूकंप आ चुके हैं वैज्ञानिक प्रयासों से भूकंप के प्रभावों को कम करने के लिए केंद्र सरकार ने दिल्‍ली क्षेत्र की जमीन के नीचे की मिट्टी की जांच करवाकर यह पता किया है कि इसके कौन से क्षेत्र सबसे ज्‍यादा संवेदनशील हैं।

जमीन के भीतर के संरचना पर होने वाले अध्‍ययन को सिस्‍मिक माइक्रोजोनेशन कहते हैं। मिट्टी की संवेदनशीलता जांच कर इसे भूकंपीय खतरे के लिहाज से नौ जोन में बांटा गया है। यह रिपोर्ट पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय ने करीब एक साल पहले जारी की थी. लेकिन इस पर ज्‍यादा चर्चा नहीं हुई।

इस रिपोर्ट में पता चला है कि घनी आबादी वाले यमुनापार समेत तीन जोन सर्वाधिक खतरनाक हैं। दिल्ली में भूकंप की आशंका वाले इलाकों में यमुना तट के करीबी इलाके, पूर्वी दिल्ली, शाहदरा, मयूर विहार, लक्ष्मी नगर आदि शामिल हैं। यह रिपोर्ट भू-विज्ञान और मौसम विज्ञान से जुड़े करीब 80 वैज्ञानिकों की मदद से तैयार की गई।

Tags:    
Share it
Top