Home > पाकिस्तानी शायर 'फैज़' की बेटी को कार्यक्रम का न्योता देकर बुलाया गया, फिर बोलने से रोका!

पाकिस्तानी शायर 'फैज़' की बेटी को कार्यक्रम का न्योता देकर बुलाया गया, फिर बोलने से रोका!

मोनाज़ी हाशमी को 15वीं एशिया-मीडिया समिट में हिस्सा लेने के लिए बुलाया गया, लेकिन ऐन मौके पर उन्हें कार्यक्रम में शामिल होने से रोक दिया गया है

 Arun Mishra |  2018-05-14 08:21:23.0  |  दिल्ली

पाकिस्तानी शायर फैज़ की बेटी को कार्यक्रम का न्योता देकर बुलाया गया, फिर बोलने से रोका!Moneeza Hashmi

नई दिल्ली : पाकिस्तान के मशहूर शायर फैज़ अहमद फैज़ की बेटी मोनाज़ी हाशमी को 15वीं एशिया-मीडिया समिट में हिस्सा लेने के लिए बुलाया गया, लेकिन ऐन मौके पर उन्हें कार्यक्रम में शामिल होने से रोक दिया गया है. मोनाज़ी हाशमी जब दिल्ली पहुंचकर कार्यक्रम में जाने की तैयारी कर रही थीं तो पता चला कि समिट के वक्ताओं की सूची में उनका नाम नहीं है. एशिया-मीडिया समिट का आयोजन पहली बार भारत में हुआ है. इसे सूचना एंव प्रसारण मंत्रालय की दो स्वायत्त निकायों ने कराया है.

कार्यक्रम की आधिकारिक वेबसाइट पर मौजूद डिटेल में वक्ताओं की लिस्ट में मोनाज़ी हाशमी का नाम दर्ज है. साथ ही यहां उनका परिचय एक सफल कहानीकार के रूप में दिया गया है. उन्हें पाकिस्तान स्थित कैशफ (मोनाज़ी हाशमी) फाउंडेशन के रचनात्मक और मीडिया प्रमुख के रूप में आमंत्रित किया गया था. हालांकि, 9 मई को सूचना एंव प्रसारण मंत्रालय की ओर से जारी की गई कार्यक्रम के वक्ताओं की लिस्ट से मोनाज़ी हाशमी का नाम हटा दिया गया था.

नाराज मोनाज़ी हाशमी ने की पीएम मोदी से शिकायत-
इस घटना से मोनाज़ी हाशमी बेहद आहत हैं. मोनीज़ा हाशमी के बेटे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को टैग करते हुए ट्वीट किया है, 'क्या ये आपका शाइनिंग इंडिया है? जहां मेरी 72 साल की मां को एशिया-मीडिया समिट में हिस्सा नहीं लेने से रोक दिया गया.'

इस घटना पर वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने भी आपत्ति जताई है और कहा है कि यह केंद्र सरकार के लिए शर्मनाक बात है. इस बीच मोनीज़ा हाशमी पाकिस्तान लौट गई हैं. मालूम हो कि फैज़ अहमद फैज़ की सबसे चर्चित रचना 'बोल के लब आज़ाद है तेरे' है.

Tags:    
Share it
Top