Home > एबीपी के सर्वे से बीजेपी हैरान कांग्रेस में खुशखबरी, बीजेपी को नहीं मिलेगा बहुमत

एबीपी के सर्वे से बीजेपी हैरान कांग्रेस में खुशखबरी, बीजेपी को नहीं मिलेगा बहुमत

 शिव कुमार मिश्र |  2018-05-24 15:14:56.0  |  दिल्ली

एबीपी के सर्वे से बीजेपी हैरान कांग्रेस में खुशखबरी, बीजेपी को नहीं मिलेगा बहुमत

भारत में देश का मूड जानने के उद्देश्य से एबीपी न्यूज ने एक सर्वे कराया है इस सर्वे का जो हाल सामने आया है उससे बीजेपी के माथे पर सलवटें जरुर पढ़ गई है. जिस तरह बीजेपी के हाथ से कई बड़े राज्यों की सत्ता छीनती नजर आ रही है तो केंद्र में भी मोदी सरकार की वापसी बहुत ज्यादा ताकतवर नहीं दिखाई दे रही है. लेकिन जितनी ख़ुशी कांग्रेस खेंमें में दिखाई दे रही है. वो कहीं ज्यादा दिखाई दे रही है. विपक्ष एकजुट होकर मोदी सरकार को घेरने की योजना बना रहा है, वहीं बीजेपी को भरोसा है कि एक बार फिर पूर्ण बहुमत के साथ वापसी करेगी. इस मौके पर एबीपी न्यूज़ ने देश का मूड जानने की कोशिश की है. जनता की नब्ज टटोलने के लिए एबीपी न्यूज़ ने सबसे बड़ा सर्वे किया है. सर्वे में हमने जाना कि अगर देश में आज चुनाव हों तो किसकी सरकार बनेगी?

देश का मूड LIVE

सर्वे के मुताबिक सीटों की बात करें तो 543 लोकसभा सीट पर आज चुनाव हों तो एनडीए को 274, यूपीए को 164 और अन्य को 105 सीटें मिलने का अनुमान है. 2014 के मुकाबले एनडीए की 49 सीटें घट रही हैं तो वहीं यूपीए को 104 सीट का फायदा होता नजर आ रहा है. अन्य दलों की बात करें तो 48 सीटों का नुकसान हो रहा है. सर्वे के मायने की बात करें तो 2019 में एक बार नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठेंगे. बीजेपी अकेले दम पर बहुमत नहीं ला पाएगी उसे सहयोगियों की जरूरत पड़ेगी.



एबीपी न्यूज़ के सर्वे में देश की सभी 543 लोकसभा सीटों की बात करें तो एनडीए की सरकार को बनती नजर आ रही है लेकिन 2014 के मुकाबले प्रदरेशन बहुमत घटा है. वोट शेयर की बात करें तो एनडीए के हिस्से 37%, यूपीए के हिस्से 31% और अन्य के हिस्से 32% वोट शेयर जाता नजर आ रहे है. 2014 की बात करें तो एनडीए को 36%, यूपीए को 25% और अन्य को 39% वोट मिला था. सर्वे के मुताबिक 2014 के मुकाबले एनडीए को एक प्रतिशत वोट शेयर का फायदा हो रहा है. वहीं यूपीए को 6% वोट शेयर का फायदा होने का अनुमान है.





एबीपी न्यूज़ के सर्वे के मुताबिक दक्षिण भारत के छह राज्यों की 132 लोकसभा सीटों पर एनडीए को बड़ा झकटा लगता नजर आ रहा है. दक्षिण की 132 सीटों पर अगर अभी चुनाव हों तो एनडीए के हिस्से 18 से 22, यूपीए के हिस्से 65 से 75 और अन्य के हिस्से 38 से 44 सीट जाने का अनुमान है. 2014 के आंकड़ों की बात करें तो एनडीए को 23, यूपीए को 21 और अन्य को 88 सीट मिलीं थीं.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की लोकप्रियता की बात करें तो अभी राहुल गांधी 24% लोगों की पसंद हैं. मई 2014 में ये आंकड़ा 16% था, एक साल बाद मई 2017 में राहुल गांधी की लोकप्रियता में गिरावट आई और आंकड़ा 09% प्रतिशत पर पहुंच गया. जनवरी 2018 में राहल गांधी 20% लोगों की पसंद थे. प्रधानमंत्री मोदी के उलट राहुल गांधी लोकप्रियता पिछले चाल साल में उच्चतम स्तर पर है. प्रधानमंत्री मोदी और राहुल गांधी की लोकप्रियता में सिर्फ 10% का अंतर है.

एबीपी न्यूज़ ने सबसे बड़े सर्वे में प्रधानमंत्री मोदी की लोकप्रियता को लेकर भी सवाल पूछा. मई 2014 में प्रधानमंत्री 36% लोगों की पसंद थे. एक साल बाद मई 2017 में लोकप्रियता में उछाल आया और आंकड़ा 44% पर पहुंच गया. जनवरी 2018 में प्रधानमंत्री 37% लोगों की पसंद थे. ताजा आंकड़ों की बात करें तो तीन प्रतिशत की गिरावट के साथ प्रधानमंत्री 34% लोगों की पसंद बने हुए हैं. सर्वे के मुताबिक पिछले चार साल में प्रधानमंत्री मोदी की लोकप्रियता निम्नतम स्तर पर हैं.


उत्तर भारत की 151 सीटों की बात करें तो अभी चुनाव हों तो एनडीए को भारी नुकसान होने का आशंका है. एनडीए को 86 से 94, यूपीए को 23 से 27 और अन्य को 33 से 39 सीटें मिलने का अनुमान है. 2014 में उत्तर भारत में एनडीए को 134, यूपीए को 8 और अन्य 9 सीटें मिली थीं. उत्तर भारत में विपक्ष के एकजुट होने के असर एनडीए के प्रदर्शन पर साफ नजर आ रहा है. उत्तर भारत में उत्तर प्रदेश, राजसअथान, पंजाब, हरियाणा और दिल्ली राज्य आते हैं.

सर्वे के मुताबिक राजस्थान में अगर अभी लोकसभा चुनाव के लिए वोटिंग हो तो एनडीए के खाते में 45%, यूपीए के खाते में 42% और अन्य के हिस्से 13% वोट शेयर जाने का अनुमान है. 2014 के आंकड़ों की बात करें तो एनडीए को 55%, यूपीए को 30% और अन्य को 15% वोट शेयर मिला था. राजस्थान में 2014 के मुकाबले एनडीए को 10% वोट शेयर का नुकसान हो रहा है वहीं यूपीए को 12% वोट शेयर का फायदा होता नजर आ रहा है.

सर्वे के मुताबिक देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में एनडीए को आठ फीसदी वोट शेयर का नुकसान होता नजर आ रहा है. एनडीए को 35%, यूपीए को 12%, अन्य के हिस्से 53% वोट शेयर मिलने का अनुमान है. अन्य में एसपी, बीएसपी जैसी पार्टियां हैं. 40 सीटों वाले उत्तर प्रदेश में 2014 के आंकड़ों की बात करें तो एनडीए 43% वोट शेयर के साथ सबसे बड़े गठबंधन के रूम में सामने आया था. 2014 में यूपीए को सिर्फ 8% वोट शेयर मिला था, इस बार चार फीसदी के फायदे का अनुमान है. अन्य यानी एसपी और बीएसपी जैसी पार्टियों को 2014 में 49% वोट मिला था. सर्वे के मुताबिक फूलपुर और गोरखपुर सीट बीजेपी से छीनने वाले एसपी-बीएसपी गठबंधन को फायदा मिलता नजर आ रहा है.


Share it
Top