Top
Home > राष्ट्रीय > यौन प्रताड़ित महिलाओं का नवरात्रि में मीट टू अभियान और देवी स्वरूपा नारी शक्ति!

यौन प्रताड़ित महिलाओं का नवरात्रि में मीट टू अभियान और देवी स्वरूपा नारी शक्ति!

हिंदूवादी सरकार का नारा देने वाली सरकार ने किस तरह यौन प्रताड़ित महिलाओं का नवरात्रि में मीट टू अभियान की हवा निकाल दी.

 Special Coverage News |  17 Oct 2018 3:13 AM GMT  |  दिल्ली

यौन प्रताड़ित महिलाओं का नवरात्रि में मीट टू अभियान और देवी स्वरूपा नारी शक्ति!
x

इतिहास गवाह है कि जब जब इस धरती पर नारी को भोग्या बनाने का प्रयास हुआ है तब तब महाभारत जैसा महायुद्ध एवं महाविनाश हुआ है वह चाहे सीताजी को लेकर राम रावण के बीच हुआ हो चाहे द्रोपदी को कौरवों एवं पाण्डवों के बीच हुआ हो या जगतजननी नवदुर्गा एवं राक्षसों के मध्य रहा हो। नारी को आदिकाल से शक्तिस्वरूपा देवी समान माना गया है और कन्याओं को साक्षात दुर्गा का स्वरूप मानकर कन्या भोज कराया जाता है।


कलियुग में नारी देवी शक्तिस्वरूपा नहीं बल्कि कामवासना तृप्ति का एकमात्र माध्यम मान लिया गया है और और दुनिया भर में उनकी मजबूरियों का फायदा उठाकर यौन प्रताड़ना की जा रही है।इधर नौकरी के नाम महिलाओं के यौन प्रताड़ना करने का जैसे रिवाज होता जा रहा है चाहे वह सरकारी सेक्टर हो चाहे प्राइवेट सेक्टर हो हर जगह नौकरी के लिए महिलाओं को यौन उत्पीड़न का दंश झेलना पड़ता है। नौकरी देने एवं नौकरी बरकरार रखने के नाम पर उनका शोषण करने का दौर लम्बे अरसे से चल रहा है और शायद यह पहला मौका है जबकि यौन प्रताड़ना की शिकार महिलाओं को आमजनता के सामने सोशल मीडिया के माध्यम से अपना दर्द व्यक्त करने का अवसर मिला है।


इस समय जबकि पूरा जनमानस नवरात्रि में नारी शक्ति के रूप नवदुर्गा के विभिन्न स्वरूपों के सामने लोग नतमस्तक है ऐसे समय यौन प्रताड़ना की शिकार महिलाओं का मीट टू अभियान चलाया जा रहा है और तमाम मीट टू के मामले सोशल मीडिया के जरिए अबतक सामने आ चुके हैं। नवरात्रि शुरू होते ही केन्द्र सरकार के एक मंत्री भी इस मीट टू अभियान से घिर गये हैं और बचाव में सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गये हैं। आरोपित केन्द्रीय मंत्री एम जे अकबर पर मीट टू के तहत यौन प्रताड़ना करने का लगाया गया आरोप उस समय का है जबकि वह देश के जाने माने वरिष्ठ पत्रकार थे और पत्रकारों की नियुक्ति करने का अधिकार उनके पास था। उन पर एक नहीं करीब एक दर्जन पत्रकार महिलाओं ने नौकरी के नाम पर यौन प्रताड़ना करने का आरोप लगाया है। इसके बाद राजनैतिक गलियारों में एक तूफान सा आ गया है और केन्द्रीय मंत्री के खिलाफ आंदोलन प्रदर्शन के साथ इस्तीफा देने की माँग होने लगी है।



सपा बसपा कांग्रेस सभी सरकार पर हमलावर होकर मंत्री को बचाने का आरोप लगा रहे हैं। खासबात यह है कि इस मीट टू अभियान में देश दुनिया के जितने भी लोग आरोपित किये गये हैं सभी शिक्षित उचित पदों पर आसीन हैं और सभी जिम्मेदार नियुक्ति करने का अधिकार रखने वाले गणमान्य लोग शामिल हैं।इस मीट टू अभियान से उनके चेहरे बेनकाब होने लगे हैं और दुनिया भर में यह अभियान चर्चा का विषय बन गया है। केन्द्रीय मंत्री पर अभी हाल में आरोप लगाने वाली महिला पत्रकार प्रियंका रमानी का कहना है कि यह घटना बीस साल पहले उस समय हुयी थी जब वह उनके साथ पत्रकारिता करती थी।


आरोपी मंत्री इसे सरासर झूठा शरारतपूर्ण श्रंखलाबद्ध प्रेरित पूर्व नियोजित कुचक्र मान रहे हैं और उन्होंने गवाहों सबूतों के साथ सर्वोच्च न्यायालय से न्याय की गुहार लगाई है। दूसरी तरफ आरोप लगाने वाली महिला पत्रकार ने कहा कि वह सच के सहारे मानहानि के मुकदमें का सामना करूँगी।आरोपी एम जे अकबर भले ही आज चोला बदलकर वरिष्ठ पत्रकार से वरिष्ठ राजनेता बन गये हो लेकिन उन पर आरोपों की झड़ी लगने के बाद पत्रकार जगत को गहरा आघात लगा है। महिलाओं के आरोपों के बाद यह बात जगजाहिर हो गयी है कि पत्रकारिता क्षेत्र में किस कदर गिरावट आई है।

भोलानाथ मिश्र

वरिष्ठ पत्रकार

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it