Breaking News
Home > पीएम मोदी ने जन्मदिन पर देश को समर्पित किया 'सरदार सरोवर बांध'

पीएम मोदी ने जन्मदिन पर देश को समर्पित किया 'सरदार सरोवर बांध'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जन्मदिन के मौके पर सुबह-सुबह पीएम मोदी अपनी मां हीराबेन का आशीर्वाद लेने के लिए गांधीनगर पहुंचे। पीएम मोदी मां से कुछ देर मिले और आशीर्वाद लेने के बाद लौटे। पीएम मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को हुआ था।

 आनंद शुक्ल |  2017-09-17 05:26:44.0  |  नई दिल्ली

पीएम मोदी ने जन्मदिन पर देश को समर्पित किया सरदार सरोवर बांध

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जन्मदिन के मौके पर सुबह-सुबह पीएम मोदी अपनी मां हीराबेन का आशीर्वाद लेने के लिए गांधीनगर पहुंचे। पीएम मोदी मां से कुछ देर मिले और आशीर्वाद लेने के बाद लौटे। पीएम मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को हुआ था। रविवार को अपने 67वें जन्मदिन के मौके पर गुजरातवासियों को पीएम मोदी ने बर्थडे गिफ्ट दिया। अपने गृह राज्य गुजरात पहुंचे पीएम मोदी ने यहां सरदार सरोवर बांध परियोजना को देश को समर्पित किया। नर्मदा नदी पर बना यह बांध दुनिया का दूसरे नंबर का और अपने देश का सबसे ऊंचा बांध है।

बांध से दस लाख किसानो को मिलेगा लाभ
सरदार सरोवर बांध की ऊंचाई हाल में बढ़ाकर 138.68 मीटर की गई है। इससे गुजरात, राजस्थान, मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र के लोगों को फायदा होगा। इससे करीब 10 लाख किसानों को सिंचाई की सुविधा मिलेगी और चार करोड़ लोगों को पेयजल मिलेगा। इससे सालाना एक अरब यूनिट तक जलविद्युत उत्पादन की भी संभावना है।
जल क्षमता बढ़ने से कई राज्यों को होगा फायदा
एक अधिकारिक विज्ञप्ति के मुताबिक बांध की ऊंचाई बढ़ने से प्रयोग करने वाली जल क्षमता 4.73 एकड़ फुट (एमएएफ) हो जाएगी। जिससे गुजरात , राजस्थान, मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र के लोगों को फायदा होगा। इस परियोजना से गुजरात के जल रहित क्षेत्रों में नर्मदा के पानी को नहर और पाइपलाइन नेटवर्क के जरिये पहुंचाने में मदद मिलेगी।
100 करोड़ यूनिट बिजली हर साल पैदा होगी
जल ट्रांसपोर्ट के सबसे बड़े मानव प्रयासों के रूप में देखा जा रहा है। इससे हर साल 100 करोड़ यूनिट जल बिजली पैदा होगी। सरदार बांध का दौरा करने के बाद प्रधानमंत्री साधु बेट जाएंगे, जहां 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' और इससे संबंधित सरदार वल्लभ भाई पटेल स्मारक परिसर का निर्माण किया जा रहा है। प्रधानमंत्री कार्यालय ने बताया कि पीएम मोदी को इस परियोजना के काम की प्रगति का संक्षिप्त विवरण भी दिया जाएगा। परियोजना के अंतर्गत 182 मीटर लंबी मूर्ति, एक प्रदर्शनी हॉल और एक आगंतुक केंद्र बनाया जाए रहा है।

Tags:    

नवीनतम

Share it
Top