Breaking News
Home > राष्ट्रीय > LIVE : राज्‍यसभा में दोपहर 12 बजे से नागरिकता संशोधन बिल पर बहस, BJP की मीटिंग जारी

LIVE : राज्‍यसभा में दोपहर 12 बजे से नागरिकता संशोधन बिल पर बहस, BJP की मीटिंग जारी

राज्‍यसभा में NDA के पास बहुमत नहीं है. उसे उन्‍हीं दलों से समर्थन की उम्‍मीद है जिन्‍होंने लोकसभा में बिल के पक्ष में वोट किया था

 Special Coverage News |  11 Dec 2019 5:06 AM GMT  |  दिल्ली

LIVE : राज्‍यसभा में दोपहर 12 बजे से नागरिकता संशोधन बिल पर बहस, BJP की मीटिंग जारी

नई दिल्ली : नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) आज राज्‍यसभा में पेश होगा. भाजपा के लिए असली चुनौती इस बिल को पारित कराना होगी. राज्‍यसभा में आज प्रश्‍नकाल नहीं होगा. बिल पर चर्चा दोपहर 12 बजे से शुरू होगी.

राज्‍यसभा में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के पास बहुमत नहीं है. हालांकि उसे उम्‍मीद है कि बिल आसानी से पास हो जाएगा. वे दल राज्‍यसभा में भी सरकार का साथ दे सकते हैं जिन्‍होंने लोकसभा में बिल का समर्थन किया था.

संसदीय पार्टी की मीटिंग में पीएम मोदी ने कहा, "मोदी- इस बिल से लाखों लोगों के जीवन मे बदलाव आएगा." उन्‍होंने कहा कि यह तो ऐतिहासिक बिल है, इसका विरोध क्‍यों हो रहा है. उन्‍होंने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा, "CAB पर कांग्रेस पार्टी पाकिस्तान की भाषा क्यों बोल रही है?" प्रधानमंत्री ने सांसदों से कहा कि "कुछ लोग पाकिस्तान की भाषा बोल रहे है. जनता तक इस बिल के बारे में अपनी बात पहुंचाइए."

नागरिकता संशोधन बिल का मुद्दा लोकसभा में भी गूंज सकता है. वहां कांग्रेस के चीफ व्हिप कोडिकुन्‍नील सुरेश ने 'बिल पर देश में अराजकता और विरोध' पर लोकसभा में स्‍थगन प्रस्‍ताव दिया है.

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने ट्वीट किया है, "CAB के जरिए मोदी-शाह सरकार की कोशिश है नॉर्थ ईस्‍ट को एथनिक क्‍लींज किया जाए. यह नॉर्थ ईस्‍ट, उनकी जिंदगी और भारत के विचार पर क्रिमिनल अटैक है. मैं नॉर्थ ईस्‍ट के लोगों के साथ मजबूती से खड़ा हूं."



बीजेपी सांसद अनिल बलूनी आज राज्‍यसभा में नहीं होंगे. उनके अलावा अमर सिंह भी कार्यवाही में हिस्‍सा नहीं लेंगे. दोनों की तबीयत ठीक नहीं है.

संसद भवन की लाइब्रेरी में भारतीय जनता पार्टी के संसदीय दल की बैठक शुरू हो गई है. इसमें राज्‍यसभा में होने वाले नागरिकता संशोधन विधेयक को पारित कराने की रणनीति पर चर्चा की जाएगी. मीटिंग के लिए जाते समय, पीएम मोदी ने संसदीय कार्य मंत्री मुरलीधरन के हाथ में लगी चोट के लिए एक व्यायाम की सलाह दी.

शिवसेना के राज्‍यसभा सांसद संजय राउत ने ट्वीट किया है, "समस्याएं इतनी ताकतवर नहीं होती, जितनी हम इन्हें मान लेते हैं. कभी सुना है कि अंधेरों ने सुबह होने ही नहीं दी."

विपक्ष की तरफ से बोलेंगे ये नेता

नागरिकता संशोधन बिल पर राज्‍यसभा में बहस के दौरान कांग्रेस की तरफ से कपिल सिब्‍बल बोलेंगे. तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने डेरेक ओ'ब्रायन को पक्ष रखने के लिए चुना है. समाजवादी पार्टी की ओर से रामगोपाल यादव बिल के विरोध में बात रखेंगे.

जदयू के दो बड़े नेताओं ने CAB पर पार्टी लाइन से अलग राह पकड़ ली है. जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर के बाद राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन कुमार वर्मा ने भी इस बिल का विरोध किया है. पवन कुमार वर्मा ने नीतीश कुमार से इस बिल के समर्थन पर पुनर्विचार करने की अपील की है. इसके पहले प्रशांत किशोर ने कहा था कि जदयू द्वारा इस बिल का समर्थन करना निराशाजनक है. हालांकि जदयू ने यह स्पष्ट किया है कि लोकसभा की तरह पार्टी राज्यसभा में भी इस बिल का समर्थन करेगी.

शिवसेना का स्‍टैंड साफ नहीं

शिवसेना के मनोहर जोशी ने कहा है कि 'सही समय आने पर बीजेपी-शिवसेना फिर साथ आ जाएंगे.' इस बयान पर पार्टी की ही नीलम गोरे का कहना है कि ये जोशी का निजी बयान है, शिवसेना का ऑफिशियल स्‍टैंड नहीं है.

शिवसेना प्रमुख ने मंगलवार को कहा कि यह भाजपा का भ्रम है कि जो CAB से असहमत हैं, वे 'देशद्रोही' हैं. उद्धव ठाकरे ने कहा, "कोई भी जो इससे असहमत है, वह देशद्रोही है, यह उनका भ्रम है. हमने नागरिकता संशोधन विधेयक में बदलाव के लिए सुझाव दिया है. यह एक भ्रम है कि सिर्फ भाजपा देश की परवाह करती है." महाराष्ट्र CM ने कहा, "वे हमारे नागरिक हैं, इसलिए उनके सवाल का जवाब दिया जाना चाहिए." उन्होंने कहा, "हम चीजों के स्पष्ट होने तक विधेयक (नागरिकता संशोधन विधेयक) को समर्थन नहीं देंगे."

लोकसभा में बिल का समर्थन करने वाली शिवसेना अब पलट गई है. शिवसेना के संजय राउत ने CAB का संसद में समर्थन करने की बात कही थी. महज 24 घंटे बाद ही सीएम और पार्टी चीफ प्रमुख उद्धव ठाकरे ने यू-टर्न ले लिया.

क्‍या हैं समीकरण?

राज्यसभा में कुल 245 सदस्य होते हैं. कुछ खाली सीटों के साथ सदन की ताकत 238 है. बिल पास होने के लिए 120 वोट चाहिए. राज्‍यसभा में बीजेपी के 83 सांसद हैं. उसके NDA के कुल 94 सांसद हैं. NDA में जनता दल (यूनाइटेड) के 6 सांसद, शिरोमणि अकाली दल (SAD) के तीन और लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) व भारतीय रिपब्लिकन पार्टी (RPI) के एक-एक सांसद भी हैं.

राज्यसभा में 12 मनोनीत सांसद हैं. BJP को उम्‍मीद है कि 11 का साथ उसे मिल जाएगा. इस तरह NDA के सदस्यों की गिनती 105 तक पहुंच जाएगी. पार्टी को अभी भी 15 सांसद चाहिए होंगे. BJP को उम्मीद है कि उसे AIADMK के 11 सांसदों का समर्थन मिलेगा. इससे उसके पास 116 सांसदों का समर्थन हो जाएगा. इसके बाद चार और सांसदों का समर्थन ही चाहिए होगा.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it
Top