Home > ट्रेन में सफर करना हुआ महंगा, इन 48 ट्रेनों का बढ़ा किराया

ट्रेन में सफर करना हुआ महंगा, इन 48 ट्रेनों का बढ़ा किराया

अब इनसे सफर के लिए आपको पहले से ज्यादा पैसे चुकाने होंगे. आगे हम बता रहे हैं कि आपकी जेब पर कितना असर पड़ेगा

 Ekta singh |  2017-11-07 07:13:50.0  |  नई दिल्ली

ट्रेन में सफर करना हुआ महंगा, इन 48 ट्रेनों का बढ़ा किराया

आज से ट्रेनें हुई सुपरफास्ट, पड़ेगा यात्रियों के जेब पर असरनई दिल्ली: अब आपको कुछ ट्रेनों से सफर करने के लिए 75 रुपये तक ज्यादा चुकाने पड़ेंगे. यह बदलाव 1 नवंबर से हो चुका है. रेलवे ने कुछ ट्रेनों का किराया बढ़ा दिया है, कुल 48 ट्रेनों का किराया बढ़ाया गया है. इन ट्रेनों को हाल ही में सुपरफास्ट में तब्दील किया था.

भारतीय रेलवे ने 1 नवंबर को कई ट्रेनों का टाइम टेबल बदला है. इसके साथ ही रेलवे ने कई ट्रेनों की स्पीड बढ़ा दी है और उन्हें सुपरफास्ट कर दिया है.





अब इनसे सफर के लिए आपको पहले से ज्यादा पैसे चुकाने होंगे. आगे हम बता रहे हैं कि आपकी जेब पर कितना असर पड़ेगा. भारतीय रेलवे ने 48 मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों को सुपरफास्ट में तब्दील किया है. इसके लिए इनकी स्पीड जहां महज 5 किलोमीटर बढ़ाई गई है. वहीं, इन पर सुपरफास्ट चार्ज भी लगाया गया है.

सुपरफास्ट में तब्दील की गईं ट्रेनों में रेलवे ने कोई और सुविधाओं में कोई इजाफा नहीं किया है.न्यूज एजेंसी आईएनएएस के अनुसार 1 नवंबर को जारी हुए टाइम टेबल के अनुसार अब इन ट्रेनों से सफर करने के लिए ज्यादा चार्ज लगेगा. स्लीपर के लिए 30 रुपये सेकेंड और थर्ड एसी के लिए 45 रुपये और फर्स्ट एसी के लिए 75 रुपये अतिरिक्त देने होंगे.

इस बढ़ोतरी को सुपरफास्ट चार्जेस के तौर पर वसूला जाएगा. हालांकि खर्च बढ़ने के बाद भी ये गारंटी नहीं है कि ये ट्रेनें लेट नहीं होंगी. मौजूदा समय में प्रीमियर सर्विस ट्रेन राजधानी, दुरंतो और शताब्दी अपने तय समय से लेट ही निकल रही हैं. ऐसे में ये नई ट्रेनें कितनी समय की पाबंद होंगी

रेलवे को इस सुपरफास्ट चार्ज की बदौलत 70 करोड़ रुपये का राजस्व मिलने की उम्मीद है. इन 48 ट्रेनों को जोड़ने के बाद सुपरफास्ट ट्रेनों की संख्या 1072 हो गई है. अब देखना ये होगा कि जिस तरह सुपरफास्ट चार्ज वसूला जा रहा है.

इन 48 ट्रेनों को जोड़ने के बाद सुपरफास्ट ट्रेनों की संख्या 1072 हो गई है. अब देखना ये होगा कि जिस तरह सुपरफास्ट चार्ज वसूला जा रहा है. बता दें, पिछले साल जुलाई में कैग ने अपनी रिपोर्ट में सुपरफास्ट चार्ज वसूलने पर रेलवे की जमकर खिचाई की थी. कैग ने अपनी रिपोर्ट में पाया था कि यात्री सुपर फास्ट चार्ज का भुगतान करते हैं, जबकि ट्रेन समय पर नहीं चलती.

नई सुपरफास्ट ट्रेनों में ये ट्रेनें शामिल हैं. पुणे-अमरावती एसी एक्सप्रेस, दिल्ली-पठानकोट एक्सप्रेस, कानपुर-उधमपुर एक्सप्रेस, पाटलीपुत्र-चंडीगढ़ एक्सप्रेस, विशाखापत्तनम-नांदेड़ एक्सप्रेस, छपरा-मथुरा एक्सप्रेस, रॉक फोर्ट चेन्नै तिरुचिलापल्ली एक्सप्रेस, बेंगलुरु-शिवमोगा एक्सप्रेस, टाटा-विशाखापत्तनम एक्सप्रेस, दरभंगा-जालंधर एक्सप्रेस, मुंबई-मथुरा एक्सप्रेस, मुंबई-पटना एक्सप्रेस.


Tags:    
Share it
Top