Home > गिरती इनकम और कानपुर हादसे से प्रभु की रेल हुई बेपटरी, कई हजार करोड़ का लगा घाटा!

गिरती इनकम और कानपुर हादसे से प्रभु की रेल हुई बेपटरी, कई हजार करोड़ का लगा घाटा!

 Special Coverage News |  2016-12-25 09:37:28.0  |  New Delhi

गिरती इनकम और कानपुर हादसे से प्रभु की रेल हुई बेपटरी, कई हजार करोड़ का लगा घाटा!

नई दिल्ली: साल 2016 रेलवे के लिए अच्छा नहीं रहा है. इस साल रेलवे के राजस्व में उल्लेखनीय कमी आई है और रेलवे खर्च निकालने में ढेरों मुश्किलों का सामना कर रहा है. इसके अलावा साल का अंत आते-आते कानपुर हादसे ने भी रेलवे के सुरक्षा मानदंडों पर सवाल खड़े कर दिए हैं.


आपको मालूम हो कि इस हादसे में 150 से ज्यादा लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी और 200 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे. इसके अलावा साल 2016 सरकार के इस ऐतिहासिक फैसले के लिए भी जाना जाएगा, जिसके तहत अब अलग से रेलवे बजट पेश नहीं किया जाएगा. लंबे समय से प्रस्तावित रेलवे प्रशासन का पुनर्गठन भी किए जाने का फैसला लिया गया है जिसका लक्ष्य बेहतर जवाबदेही सुनिश्चित करना है.


हालांकि, इस साल में रेलवे में कुछ अच्छे कदम भी उठाए गए हैं। उदाहरण के लिए इस साल रेलवे ने महामना एक्सप्रेस, गतिमान एक्सप्रेस और हमसफर एक्सप्रेस जैसी नई सेवाएं भी शुरू की हैं जो यात्रियों के सफर को बेहतर और आरामदेह बना रही हैं. इस साल रेलवे की कुल कमाई में लगभग 14,000 करोड़ की कमी देखी गई है. इस बीच रेलवे की माल ढुलाई की मांग और यात्रियों की संख्या में भी उल्लेखनीय कमी देखी गई है.


बाजार में मांग की कमी को देखते हुए रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा, '2016 हमारे लिए एक मुश्किल साल रहा है. इस साल कोयला, स्टील, सीमेंट, लौह अयस्क जैसे बड़ी कमोडिटीज की माल ढुलाई की मांग में काफी कमी देखी गई है. इसके अलावा रेलवे पर सैलरी भुगतान का भारी दबाव है और पूर्व निर्धारित लागतों पर हम कुछ भी नहीं कर सकते. रेलवे का रेवेन्यू मुख्ततौर पर पांच कमोडिटीज पर निर्भर करता है। इसलिए हम इन चुनौतियों को अगले साल से सुलझाना शुरू करेंगे.

Tags:    
Share it
Top