Home > अमेरिका ने बलूचिस्तान की आजादी से खींचा हाथ, कहा- नहीं करते समर्थन

अमेरिका ने बलूचिस्तान की आजादी से खींचा हाथ, कहा- नहीं करते समर्थन

 Admin5 |  2016-09-13 11:09:40.0  |  America

अमेरिका ने बलूचिस्तान की आजादी से खींचा हाथ, कहा- नहीं करते समर्थन

पाकिस्तान के बलूचिस्तान की आजादी की मांग का मामला गंभीर होता जा रहा है। एक ओर जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बलूचिस्तान की आजादी का समर्थन किया है तो वहीं अमेरिका ने बलूचिस्‍तान की आजादी की मांग को खारिज कर दिया है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा है कि अमेरिका पाकिस्तान की एकता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करता है और बलूचिस्तान की स्वतंत्रता का समर्थन नहीं करता।

किर्बी से पूछा गया था, '
बलूचिस्तान
पर अमेरिका का क्या रूख है ? विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा, 'अमेरिकी सरकार पाकिस्तान की एकता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करती है और हम बलूचिस्तान की स्वतंत्रता का समर्थन नहीं करते।' किर्बी दरअसल पाकिस्तान के दक्षिण पश्चिमी प्रांत बलूचिस्तान के अंदर और बाहर दोनों ओर से प्रांत की आजादी की मांगें बढ़ने और वहां पाकिस्तानी सुरक्षा बलों द्वारा मानवाधिकारों के उल्लंघन के खिलाफ आवाजें तेज होने से जुड़े सवाल का जवाब दे रहे थे।

बीते 15 अगस्त को देश के 70वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लालकिले की प्राचीर से पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर, गिलगित और बलूचिस्तान का मुद्दा उठाया था। उन्होंने कहा था कि इन स्थानों के लोगों ने उन्हें उनके मुद्दे उठाने के लिए शुक्रिया कहा है।

इसके बाद बलूच नेताओं और स्थानीय नागरिकों ने कई बार पाकिस्तान का विरोध करने के दौरान भारत के झंडे लहराए और पीएम मोदी का शुक्रिया किया। साथ ही दुनिया के कई देशो में बलूच नेताओं ने बलूचिस्‍तान की आजादी और भारत के धन्‍यवाद के रूप में रैलियां निकाली थी। पिछले एक महीने में इस तरह की रैलियां अमेरिका, ऑस्‍ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया, स्विट्जरलैंड और पाकिस्‍तान में हो चुकी हैं।

Tags:    
Share it
Top