Home > चीन ने रोका ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी का पानी,पाकिस्तान से मिलीभगत तो नहीं!

चीन ने रोका ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी का पानी,पाकिस्तान से मिलीभगत तो नहीं!

 Alok mishra |  2016-10-01 09:43:29.0  |  New Delhi

चीन ने रोका ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी का पानी,पाकिस्तान से मिलीभगत तो नहीं!

चीन ने अपनी 'सबसे महंगी' पनबिजली परियोजना के निर्माण के तहत तिब्बत में ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी का प्रवाह रोक दिया है, जिससे भारत में चिंता पैदा हो सकती है, क्योंकि इससे नदी के निचले बहाव वाले देशों में जल का प्रवाह प्रभावित होने की आशंका है.

चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने परियोजना के प्रशासनिक ब्यूरो के प्रमुख झांग युन्बो के हवाले से कहा कि तिब्बत के शिगाजे में यारलुंग झांग्बो (ब्रह्मपुत्र का तिब्बती नाम) की सहायक नदी शियाबुकू पर बन रही लाल्हो परियोजना में 4.95 अरब युआन (74 करोड़ डॉलर) का निवेश किया गया है.

ब्रह्मपुत्र नदी का पानी असम, सिक्कम और अरुणाचल प्रदेश में पहुंचता है। एक सहायक नदी को बंद किए जाने से इन राज्यों में पानी की आपूर्ति में कमी आ सकती है। बता दें कि पाकिस्तान धमकी दे चुका है कि अगर भारत ने सिंधु नदी का पानी रोका तो वह चीन के जरिए ब्रह्मपुत्र नदी का पानी रुकवा देगा।

गौरतलब है कि उरी आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के साथ सिंधु समझौते की समीक्षा की बात कही थी और दोनों देशों के बीच सिंधु नदी समझौते को लेकर नियमित बातचीत को भी रद्द कर दिया था. तब से अटकलें थी कि चीन भी भारत के साथ ऐसा ही रुख अपना सकता है. चीन-पाकिस्तान की दोस्ती भारत के लिए सबसे बड़ी चुनौती है.

चीन ने तिब्बत में ब्रह्मपुत्र नदी की एक सहायक नदी का पानी रोक दिया है, इसका कारण बताया जा रहा है कि वह वहां एक हाईड्रो प्रॉजेक्ट लगा रहा है. भारत के लिए यह चिंता की बात है क्योंकि चीन के इस कदम से भारत समेत कई देशों में ब्रह्मपुत्र के पानी के बहाव पर असर पड़ सकता है.

Tags:    
Share it
Top