Home > जाकिर पर 2008 में लिखा सरकार को, नहीं मानी गई मेरी बात

जाकिर पर 2008 में लिखा सरकार को, नहीं मानी गई मेरी बात

 Special Coverage |  2016-07-09 10:23:48.0  |  New delhi

जाकिर पर 2008 में लिखा सरकार को, नहीं मानी गई मेरी बात

ढाका में पिछले हफ्ते हुए आतंकी हमले के बाद चर्चा में आए इस्लामी प्रचारक जाकिर नाइक को लेकर मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर और मौजूदा भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह ने बड़ा खुलासा किया है. सत्यपाल सिंह ने दावा किया है कि उन्होंने जाकिर नाइक की संदिग्ध गतिविधियों को लेकर 2008 में केंद्र सरकार को रिपोर्ट भेजी थी लेकिन उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई.
उन्होंने बताया की जब वे कमिश्नर थे उन्होंने डॉ. जाकिर को लेकर सरकार को भी अवगत कराया था लेकिन सरकार ने ध्यान नहीं दिया जिसके चलते आज ये दिन देखना पड़ रहा है. जाकिर नाइक धर्म परिवर्तन कराता है ओर लोगों को बरगलाता है उसको विदेशों से फंडिंग भी होती है.



यूपी सरकार को भी घेरा
बागपत से भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह ने शनिवार को मेरठ में पत्रकार वार्ता करते हुए कानून व्यवस्था को लेकर यूपी सरकार को कठघरे में खड़ा किया वहीं विवादों में आये डॉ. जाकिर नाइक की फंडिंग की जांच कराने की मांग की.डॉ. जाकिर के बारे में सत्यपाल सिंह ने बताया की वो एक दशक से उन्हें जानते हैं. वो खुद भी उनकी सभाओं में गए हैं और वहां की हालत देख चुके हैं. उन्होंने कहा की फॉरेन फंडिंग के जरिए वहां हो रहे धर्मपरिवर्तन को देखते हुए उनकी फाउंडेशन को रद्द किया जाना चाहिए.

Share it
Top