Home > पाकिस्तानी महिला ने सुषमा स्वराज से जिंदगी बचाने की लगाई गुहार, जानें- पूरा मामला

पाकिस्तानी महिला ने सुषमा स्वराज से जिंदगी बचाने की लगाई गुहार, जानें- पूरा मामला

तनवीर पिछले कई दिनों से सोशल मीडिया पर सुषमा स्वराज से मदद मांग रही हैं...

 Special Coverage News |  2017-07-09 06:49:52.0  |  New Delhi

पाकिस्तानी महिला ने सुषमा स्वराज से जिंदगी बचाने की लगाई गुहार, जानें- पूरा मामला

इस्लामाबाद : पड़ोसी देश पाकिस्‍तान के साथ भले ही कितने भी तनावपूर्ण संबंध रहे हों, मगर विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज वहां के आम नाग‍रिकों की मदद के लिए हमेशा तत्‍पर रहती हैं। इस बार कैंसर से जूझ रही एक पाकिस्‍तानी महिला ने सुषमा स्‍वराज से मदद की गुहार लगाई है। महिला का नाम फैजा तनवीर है, जिन्‍होंने पत्र लिखकर भारत के लिए वीजा दिलवाने में मदद की मांग की है।


दरअसल, फैजा ने एक मेडिकल वीजा आवेदन पत्र जमा कराया था, जिसे भारतीय दूतावास द्वारा खारिज कर दिया गया। यह मामला उस समय प्रकाश में आया जब फैजा ने सुषमा स्‍वराज के 'ईद मुबारक' ट्वीट पर एक वीडियो पोस्‍ट कर टिप्‍पणी की थी। वीडियो में बताया गया था कि वह माउथ कैंसर से जूझ रही हैं।

इसके बाद उन्‍होंने सुषमा स्‍वराज को ट्वीट करते हुए उनकी जिंदगी बचाने का अनुरोध किया। फैजा की मां के अनुसार, दोनों देशों के बीच तनावपूर्ण संबंधों का हवाला देते हुए भारतीय दूतावास द्वारा उन्‍हें वीजा देने से इंकार कर दिया गया। फैजा को उत्‍तर प्रदेश के गाजियाबाद स्थित इंद्रप्रस्‍थ डेंटल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में अपना इलाज कराना है। इसके लिए उन्‍होंने आधा पैसे का भुगतान भी कर दिया है।

फैजा तनवीर की वीजा एप्लीकेशन इंडियन हाई कमीशन ने रिजेक्ट कर दी है। (Photo : Twitter)


तनवीर पिछले कई दिनों से सोशल मीडिया पर सुषमा स्वराज से मदद मांग रही हैं। उन्होंने एक ट्वीट में लिखा- मैम, मेरी जिंदगी बचाने के लिए प्लीज मदद करिए। तनवीर ने अपनी तस्वीरें और वीडियो भी सोशल मीडिया पर शेयर किया है। जिसमें उनका ट्यूमर दिखाई पड़ रहा है। तनवीर की मां का कहना है कि उनकी एप्लीकेशन भारत और पाकिस्तान के बीच बिगड़ते रिश्तों के चलते कैंसल की गई है। जिसके चलते तनवीर को वीजा के लिए सोशल मीडिया का सहारा लेना पड़ा है।


आपको बता दें पहले साउथ एशियाई देशों के ज्यादातर पेशेंट्स मेडिकल वीजा के लिए सिंगापुर या थाईलैंड का रुख करते थे। लेकिन, बीते कुछ साल से भारत में मेडिकल फैसेलिटीज में जबरदस्त सुधार हुआ। अब एशियाई देशों के ज्यादातर पेशेंट्स इलाज के लिए भारत को तवज्जो देते हैं।

Tags:    
Share it
Top