Home > लद्दाख में तिब्बती झंडा देख भड़का चीन, कहा- हमारे खिलाफ तिब्बत का इस्तेमाल कर रहा है इंडिया

लद्दाख में तिब्बती झंडा देख भड़का चीन, कहा- हमारे खिलाफ तिब्बत का इस्तेमाल कर रहा है इंडिया

लद्दाख में तिब्बती झंडा फहराए जाने पर चीन (ड्रैगन) भड़क गया है।

 Special Coverage News |  2017-07-10 11:30:35.0  |  लद्दाख

लद्दाख में तिब्बती झंडा देख भड़का चीन, कहा- हमारे खिलाफ तिब्बत का इस्तेमाल कर रहा है इंडिया

नई दिल्ली: लद्दाख में तिब्बती झंडा फहराए जाने पर चीन (ड्रैगन) भड़क गया है। चीनी मीडिया इन दिनों इस बात के खिलाफ जोरशोर से आवाज बुलंद कर रहा है। सूत्रों के अनुसार बंगगोंग, भारत में इस क्षेत्र को पांगोंग कहा जाता है, में जिस झंडे को फहराया गया है वो तिब्बत का राष्ट्रीय झंडा है। ये इलाका भारत और चीन सीमा रेखा के बहुत करीब है। बीजिंग के ग्लोबल टाइम्स ने एक लेख के जरिए भारतीय अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने ऐसा करने के लिए तिब्बती चरमपंथियों को उकसाया है।

अखबार ने आगे कहा कि हालांकि अभी तक ये पूरी तरह से साफ नहीं हो पाया है कि नई दिल्ली इसमें प्रत्यक्ष रूप से शामिल है, लेकिन हमें उम्मीद करते हैं कि वो इसकी सत्यता का कोई संकेत नहीं देंगे। ग्लोबल टाइम्स में संपादकीय लिखने वाले यू निंग ने आगे लिखा, 'अभी तक भारत द्वारा इस गतिविधि में शामिल होने का कोई सबूत नहीं मिला है।' हालांकि लेख ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा कि नई दिल्ली चीन के खिलाफ तिब्बत कार्ड इस्तेमाल कर रहा है।
लेख में आगे कहा गया भारत सरकार ने सार्वजनिक तौर पर कहा था कि वो चीन विरोधी किसी भी राजनीतिक गतिविधि में भाग नही लेगी। लेकिन लंबे समय से भारत तिब्बत का राजनयिक कार्ड के रूप इस्तेमाल करता रहा है। लेख में सिक्किम विवाद पर बात करते हुए कहा गया कि सीमा पर बन रहे तनाव को देखते हुए भारत को विवेवपूर्ण ढंग से काम करना चाहिए।
तिब्बत के नागरिकों को चीनी विरोधी गतिविधियों से रोकने और उन्हें नियंत्रित करने की जिम्मेदारी नई दिल्ली की है। लेख में आगे कहा गया कि भारत को सिक्किम सीमा से तत्काल अपनी सेना वापस बुला लेनी चाहिए नहीं तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। ग्लोबल टाइम्स में छपे लेख में आगे कहा गया कि भारत में एक बड़ी आबादी गरीबी रेखा के नीचे जिंदगी गुजार रही है। भारत को विकास के लिए शांति की जरूरत है। इसलिए नई दिल्ली भारत-चीन संबंधों को खराब नहीं कर सकती। चीन भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार है।

Tags:    
Share it
Top