Home > बजट सत्र : राष्ट्रपति के अभिभाषण में नोटबंदी-सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र, मोदी सरकार की गिनाईं उपलब्धियां

बजट सत्र : राष्ट्रपति के अभिभाषण में नोटबंदी-सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र, मोदी सरकार की गिनाईं उपलब्धियां

 Arun Mishra |  2017-01-31 07:07:22.0  |  नई दिल्ली

बजट सत्र : राष्ट्रपति के अभिभाषण में नोटबंदी-सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र, मोदी सरकार की गिनाईं उपलब्धियां

नई दिल्ली : राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करने के साथ ही आज संसद का बजट सत्र शुरु हो गया। बजट सत्र के पहले दिन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने अपने अभिभाषण में नरेंद्र मोदी सरकार की उपलब्धियों का बखान किया। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने संसद को संबोधित करते हुए लिखा कि पहली बार रेल बजट और आम बजट एक साथ पेश हो रहे हैं।

बजट सत्र के पहले दिन संसद के दोनों सत्रों को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने संबोधित करते हुए लिखा कि भारत सरकार का लक्ष्य सबका साथ सबका विकास है। ये सरकार गरीबों, शोषितों, वंचितों के लिए काम कर रही है। केंद्र सरकार की योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि उनकी सरकार 'सबका साथ, सबका विकास' चाहती है।

राष्ट्रपति ने कहा कि सरकार ने कालेधन, भ्रष्टाचार को रोकने के लिए नोटबंदी जैसा अहम फैसला लिया है। नोटबंदी से कालेधन और आतंकी गतिविधियों पर रोक लगाने की कोशिश कि गयी है। सेना ने सफलतापूर्व सर्जिकल स्ट्राइक और आंतकवाद का मुंहतोड़़ जवाब दिया है। पूर्व सैनिकों की OROP की मांग को मौजूदा भारत सरकार ने पूरा किया है। चार दशकों से चली आ रही वन रैंक वन पेंशन की मांग पूरी की। BHIM एप से बाबासाहेब भीमराव अंवेडकर को श्रद्धांजलि दी गई।

जनधन योजना का जिक्र करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि इसके जरिए गरीबों को बैंकिंग व्यवस्था से जोड़ा गया। इसके तहत 26 करोड़ से ज्यादा बैंक खाते खोले गए और 20 करोड़ से ज्यादा रुपे कार्ड जारी किए गए।

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने कहा कि सरकार ने 13 करोड़ लोगों को विभिन्न सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का सीधा फायदा हुआ है। उन्होंने कहा कि 1 लाख से ज्यादा बैंक मित्रों की नियुक्ति की गई है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों को बैंकों से फंड नहीं मिलता था उन्हें उनके छोटे रोजगार के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना शुरू की गई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के लिए 2 लाख करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए। राष्ट्रपति ने कहा कि इस योजना के तहत 5.6 करोड़ लोन्स को मंजूरी दी गई।

राष्ट्रपति ने अपने अभिभाषण में दीनदयाल अंत्योदय योजना का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत स्वयंसहायता समूहों को 16 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा रकम मुहैया कराई गई। इंद्रधनुष टीकाकरण अभियान का जिक्र करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि इसके तहत 55 लाख बच्चों को टीका लगाया गया है।

स्वच्छ भारत अभियान का जिक्र करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि इसके तहत 3 करोड़ से ज्यादा टॉइलट्स बनाए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन जन आंदोलन का रूप ले चुका है। अब तक 1,4 लाख गांव, 450 शहर और 77 जिले स्वच्छ हो चुके हैं। राष्ट्रपति ने कहा कि लकड़ी के चूल्हों से मुक्ति के लिए प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना शुरू की गई है जिसका लाभ लेने वालों में 37 प्रतिशत एससी-एसटी वर्ग से हैं। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत 1.5 करोड़ लोगों को एलपीजी कनेक्शन दिया गया है। उन्होंने यह भी बताया कि 1.2 करोड़ ग्राहकों ने अपनी मर्जी से एलपीजी सब्सिडी छोड़ दी है।

अब तक जिन गांवों में बिजली नहीं पहुंची है वहां बिजली पहुंचाने के लिए ग्राम ज्योति योजना शुरू की गई है। राष्ट्रपति ने कहा कि ग्राम ज्योति योजना के तहत रेकॉर्ड समय में 11 हजार से ज्यादा गांवों में बिजली पहुंचाई गई। उन्होंने कहा कि छोटो उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए 2 लाख करोड़ रुपये दिए गए। केंद्र सरकार को किसान हितैषी बताते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि 1.7 लाख हेक्टेयर जमीन को सिंचाई व्यवस्था के तहत लाया गया। उन्होंने कहा कि किसानों को फसल की सही कीमत दिलवाई गई, 3.66 करोड़ किसानों को फसल बीमा की सुविधा दी गई।

हॉल में प्रधानमंत्री के साथ वित्त मंत्री एवं राज्यसभा में सदन के नेता अरुण जेटली और राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद बैठे हुए है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव और मोदी मंत्री मंडल के सदस्य मौजूद है।

Tags:    
Share it
Top