Top
Home > Archived > #HappyBirthDay : 81 साल के हुए राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पीएम मोदी ने दी बधाई

#HappyBirthDay : 81 साल के हुए राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पीएम मोदी ने दी बधाई

 Arun Mishra |  11 Dec 2016 5:28 AM GMT  |  नई दिल्ली

#HappyBirthDay : 81 साल के हुए राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पीएम मोदी ने दी बधाई

नई दिल्ली : भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी आज 81 साल के हो गए हैं। भारत के 13वें राष्ट्रपति के 81वें जन्मदिन के अवसर पर पूरा देश उन्हें बधाई दे रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति को जन्मदिन की बधाई दी हैं। मोदी ने ट्वीट कर कहा, 'राष्ट्रपति जी को जन्मदिन की बधाई। उनके जबरदस्त अनुभव और ज्ञान से देश को बहुत लाभ हुआ है। मैं उनके लंबे और स्वस्थ जीवन की कामना करता हूं।उन्होंने कहा, "प्रणब दा ने हमेशा देशहित को सबसे ऊपर रखा है। हमें आप जैसे ज्ञानी और सुशिक्षित राष्ट्रपति पर गर्व है।'

अपने जन्मदिन के इस मौके पर प्रणब दा कई कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे। कार्यक्रमों की लिस्‍ट में तीन किताबों का विमोचन होगा और नोबेल विजेत कैलाश सत्‍यार्थी द्वारा एक अभियान की शुरुआत करेंगे। कैलास सत्यार्थी चिल्ड्रेंस फाउंडेशन द्वारा आयोजित '100 मिलियन फोर 100 मिलियन कैंपेन' का आगाज करना है। साथ ही वह तीन किताबों का विमोचन भी करेंगे. इनके नाम है 'राष्ट्रपति भवन: फ्रॉम राज टू स्वराज', 'लाइफ एट राष्ट्रपति भवन' और 'इंद्रधनुष वोल्यूम दो' का विमोचन करेंगे।

13 नंबर से है प्रणब दा का खास नाता :
प्रणब मुखर्जी का 13 से अनोखा नाता रहा है। वे 13 वें राष्ट्रपति हैं। 13 नंबर का बंगला है दिल्ली में। 13 तारीख को आती है शादी की सालगिरह। इतना ही नहीं 13 जून को ही राष्‍ट्रपति पद के लिए ममता ने प्रणब का नाम उछाला था।

प्रणब मुखर्जी का राजनैतिक कैरियर :
प्रणब मुखर्जी का जन्म 11 दिसंबर 1935 को पश्‍चिम बंगाल में हुआ था। वे जुलाई 1969 में पहली बार राज्य सभा में चुनकर आए। तबसे वे कई बार राज्य सभा के लिए चुने गए हैं। फरवरी 1973 में पहली बार केंद्रीय मंत्री बनने के बाद मुखर्जी ने पिछले चालीस साल में कांग्रेस की या उसके नेतृत्व वाली सभी सरकारों में मंत्री पद संभाला है। वर्ष 1996 से लेकर 2004 तक केंद्र में गैर-कांग्रेसी सरकार रही लेकिन 2004 में यूपीए के सत्ता में आने के बाद से ही प्रणब मुखर्जी केंद्र सरकार और कांग्रेस पार्टी के संकटमोचक के तौर पर काम करते रहे। वो सरकार की कई समितियों की अध्यक्षता करने के अलावा कांग्रेस पार्टी में भी एक अहम भूमिका निभा चुके हैं। प्रणब मुखर्जी अब देश के 13वें राष्‍ट्रपति हैं। प्रतिभा पाटील के इस्‍तीफे के बाद प्रणब मुखर्जी को राष्‍ट्रपति पद की शपथ दिलाई गई।

प्रणब मुखर्जी को पहली बार जुलाई 1969 में राज्य सभा के लिए चुना गया था। उसके बाद वे 1975, 1981, 1993 और 1999 में राज्य सभा के लिए चुने गए। वे 1980 से 1985 तक राज्य में सदन के नेता भी रहे। मुखर्जी ने मई 2004 में लोक सभा का चुनाव जीता और तब से उस सदन के नेता थे। माना जाता है कि यूपीए सरकार में प्रणब मुखर्जी के पास सबसे ज़्यादा जिम्मेदारियाँ थीं। वे वित्तमंत्रालय संभालने के अलावा बहुत से मंत्रिमंडलीय समूह का नेतृत्व कर रहे थे।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it