Top
Breaking News
Home > Archived > सौम्या हत्याकांड: मार्कंडेय काटजू को कोर्ट की अवमानना का नोटिस

सौम्या हत्याकांड: मार्कंडेय काटजू को कोर्ट की अवमानना का नोटिस

 Special Coverage News |  11 Nov 2016 12:51 PM GMT  |  नई दिल्ली

सौम्या हत्याकांड: मार्कंडेय काटजू को कोर्ट की अवमानना का नोटिस

नई दिल्ली : अपने बेबाक बयानों के लिए मशहूर पूर्व जज जस्टिस मार्कंडेय काटजू को न्यायालय की अवमानना का नोटिस भेजा है। कोर्ट ने यह नोटिस सौम्या हत्याकांड मामले में काटजू द्वारा जजों की आलोचना किए जाने के बाद जारी किया गया है।

कोर्ट ने कहा कि जस्टिस काटजू का जस्टिस गोगोई के पर दिया गया बयान तीन जजों की बेंच पर सीधा हमला है जिसमें फैसले की नहीं बल्कि जजों की आलोचना की गई है।

जस्टिस काटजू का पलटवार
कोर्ट के नोटिस के बाद जस्टिस काटजू ने कहा, 'मिस्टर गोगोई मुझे डराने की कोशिश मत कीजिए। आपके जो मन में आए कीजिए, मुझे डर नहीं लगता।' इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जबकि अपने ही किसी पूर्व जज को सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना का नोटिस दिया हो। कोर्ट में सुनवाई के दौरान काटजू के उत्तेजित होने पर बेंच ने सिक्यॉरिटी को बुला लिया। बेंच ने कहा, 'क्या कोई है जो जस्टिस काटजू को कोर्ट से बाहर ले जा सके।'

ये था मामला
1 फरवरी 2011 को 23 साल की सौम्या पैसेंजर ट्रेन से एर्णाकुलम से शोरनूर जा रही थी। गोविंदाचामी सौम्या को खाली पड़े महिलाओं के लिए आरक्षित डिब्बे में ले गया। वहां उसने उसके साथ लूटपाट की, सौम्या के विरोध करने पर उसे चलती ट्रेन से नीचे फेंका इसके बाद गेविंदाचामी खुद भी ट्रेन से कूद गया और सौम्या के साथ रेप किया। 15 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट ने गोविंदाचामी को मर्डर केस में बरी कर दिया, उसे सिर्फ रेप का दोषी माना और 7 साल की सजा सुनाई। ऐसा सबूत की कमी की वजह से हुआ था। इस फैसले को लेकर सौम्या की मां ने नाराजगी जताई थी और केस के रिव्यू के लिए पिटीशन दायर की थी, जिसपर 11 नवंबर को सुनवाई होगी। फैसले पर काटजू ने भी अपनी फेसबुक पोस्ट के जरिए असंतोष जाहिर किया था।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it