Home > BJP अध्यक्ष अमित शाह ने रचा चक्रव्यूह, 2019 लोकसभा चुनाव में 360+ सीटें जीतने का रखा लक्ष्य

BJP अध्यक्ष अमित शाह ने रचा चक्रव्यूह, 2019 लोकसभा चुनाव में 360+ सीटें जीतने का रखा लक्ष्य

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने 2019 में 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है..

 Arun Mishra |  2017-08-17 12:08:17.0

BJP अध्यक्ष अमित शाह ने रचा चक्रव्यूह, 2019 लोकसभा चुनाव में 360+ सीटें जीतने का रखा लक्ष्य

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी ने 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए तैयारी शुरू कर दी है। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने वरिष्ठ मंत्रियों की बैठक बुलाई और चुनाव के लिए कमर कस लेने का आह्वान किया। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने 2019 में 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है।


बीजेपी सूत्रों के मुताबिक अमित शाह ने बैठक में मौजूद 9 केंद्रीय मंत्रियों और 30 पार्टी अधिकारियों से कहा कि वो अभी से 2019 के चुनाव की तैयारी में जुट जाएं। बैठक में अमित शाह की तरफ से 10 मिनट का एक पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन दिया गया। इस पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन में राज्य वार उन सीटों का ज़िक्र किया गया। प्रेजेनटेशन में बंगाल, उड़ीसा, तेलंगाना ,तमिलनाडु, केरल और कर्नाटक की सीटों का का ज़िक्र किया गया।

अमित शाह ने 150 ऐसी सीटों को जीतने का टारगेट रखा जो बीजेपी पिछले चुनाव में जीत नहीं पायी थी। बीजेपी मुख्यालय में हुई बैठक में कई मंत्री शामिल हुए। इनमें अनंत कुमार, रविशंकर प्रसाद, नरेंद्र सिंह तोमर, जेपी नड्डा, पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान, निर्मला सीतारमण, मनोज सिन्हा, प्रकाश जावड़ेकर और अर्जुन मेघवाल शामिल हुए। अमित शाह ने इन सभी मंत्रियों और नेताओ से जानकारी ली कि केंद्र सरकार की उनके मंत्रालय संबंधी योजनाएं ज़मीन पर किस स्तर पर पहुंची हैं।

वहीं संगठन की ओर से बीजेपी महासचिवों में राम माधव, मुरलीधर राव, अनिल जैन, कैलाश विजयवर्गीय और अरुण सिंह और बीजेपी संगठन महामंत्री राम लाल, सह संगठनों महामंत्री वी सतीश, सौदान सिंह, शिव प्रकाश और संतोष कुमार को बैठक में बुलाया गया था। इनके अलावा बीजेपी शासित राज्यों से भी कुछ वरिष्ठ नेताओं को बुलाया गया था।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का मानना है कि हिंदी भाषी क्षेत्रों में बीजेपी अपना सर्वोत्तम प्रदर्शन कर चुकी है। अब 2014 में जिन जगहों पर बीजेपी जीत नहीं दर्ज कर पायी है उन जगहों पर इस बार पूरा फोकस है। अमित शाह हर चार महीने में सर्वे करा रहे हैं। तमिलनाडु, केरल और कर्नाटक जैसे राज्यों पर विशेष फोकस रहेगा। एक वरिष्ठ नेता को 4 से 5 सीटों को जीतने का जिम्मा दिया गया है।

गौरतलब है कि आज देश के 13 राज्यों में बीजेपी की सरकार है, वहीं 5 अन्य में वह सत्ताधारी गठबंधन का हिस्सा है।

Tags:    
Share it
Top