Top
Breaking News
Home > Archived > रक्षा मंत्री कब निकालोगे आँखें इनकी? कब बंद होगी सहादत? काश आपके बेटे सेना में होते!

रक्षा मंत्री कब निकालोगे आँखें इनकी? कब बंद होगी सहादत? काश आपके बेटे सेना में होते!

 Special Coverage News |  30 Nov 2016 2:22 AM GMT  |  New Delhi

रक्षा मंत्री कब निकालोगे आँखें इनकी? कब बंद होगी सहादत? काश आपके बेटे सेना में होते!

नई दिल्ली: सेना पर आतंकी हमलों की इन्तहा हो गई, हमारे देश की जावंज बडबोली सरकार ने सेना को शहीद करने का जैसे ठेका ले लिया हो. बात अगर बीते वर्षो की करें तो इस साल में सबसे ज्यादा सैनिक शहीद हुए है. इन्ह्ने सहादत का दर्द तो तब होता जब इनका भी बेटा सेना में होता और उसके शहीद होने का डर होता.


आपको बता दें कि अभी बीते दिन देश के रक्षा मंत्री ने ऐलान किया कि पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज आये वरना हम उनकी आँखे निकाल कर गोटियाँ खेलना जानते है. ठीक उसके दो दिन बाद हमरी सेना के बेस केम्प नगरोटा पर हमला हो जाता है. और हमारे सेना के दो अधिकारीयों समेत सात लोग शहीद हो जाते है. हम किसी की आँख क्या निकालेंगे हम तो खुद ही मौत के मुंह में समाते जा रहे है.


प्रधनमंत्री जी, रक्षा मंत्री जी, विदेश मंत्री जी, गृह मंत्री और वित्त मंत्री जी क्या आप उस परिवार की पीड़ा जानते है जिस परिवार का बेटा शहीद होता है. जिस मासूम ने अपना बाप खोया है. जिसके हाथों की मेहँदी का रंग फीका भी नहीं पड़ा था तब तक वो अपना पति खोकर विधवा का नाम ले चुकी. जिस माँ और बाप ने सोचा था कि इस साल घर में शहनाई बजेगी बहा मातम छा गया. कौन है जबाब देने वाला. नोट बंदी पर संसद नहीं चलने देने वाले सांसदों आज वक्त है इस सरकार से पूछने का कि कब बंद होगी सहादत. या फिर ऐसे ही चलेगा ये सब?

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it