Top
Home > Archived > झूठ साबित होगा पीएम का दावा: नहीं लगेगा कालेधन पर अंकुश, फिर से सिस्टम में आ जाएंगे 90-95 फीसदी पुराने नोट

झूठ साबित होगा पीएम का दावा: नहीं लगेगा कालेधन पर अंकुश, फिर से सिस्टम में आ जाएंगे 90-95 फीसदी पुराने नोट

 Special Coverage News |  30 Nov 2016 7:24 AM GMT  |  New Delhi

झूठ साबित होगा पीएम का दावा: नहीं लगेगा कालेधन पर अंकुश, फिर से सिस्टम में आ जाएंगे 90-95 फीसदी पुराने नोट
x

नई दिल्ली: नोटबंदी के 21 दिन बीत जाने के बाद देशभर के विभिन्न बैंकों में 9 लाख करोड़ रुपए जमा हो चुके हैं। ऐसा अंदाजा है कि बंद हुए 500 और 1000 रुपए के नोटों का 60 प्रतिशत हिस्सा बैंकों में वापस आ गया है और बाकी भी आने वाले दिनों में बैंकों में जमा हो जाएगा। ऐसे में कई लोग सरकार के नोटबंदी के फैसले पर सवाल उठाते हुए उसे गलत बता रहे हैं। लोगों का मानना है कि भ्रष्टाचार और कालेधन पर रोक लगाने का सरकार का फैसला कारगर साबित नहीं हो रहा है। बैंकरों और विश्लेषकों का मानना है कि 30 दिसबंर तक बंद किए गए नोटों का 90 से 95 प्रतिशत हिस्सा वापस बैंकों में आ जाएगा जिन्हें बाद में लोग निकाल भी सकेंगे और ऐसे में वह पैसा फिर से सफेद हो जाएगा।


एक विदेशी संस्थागत निवेशक ने कहा, 'लगभग दस दिन पहले ही सरकार को पता लग चुका है कि भारी मात्रा में 500 और 1000 रुपए के नोट बैंकों में फिर से जमा करवाए जा रहे हैं। इनकम टैक्स द्वारा बनाई गई स्कीम से ज्यादा संपत्ति वाले लोग सरकार की आंखों में धूल झोंककर अपने पैसे को सफेद करने के तरीके निकाल रहे हैं। 'हालांकि, सरकार की तरफ से कई नियम और कानून बनाए गए हैं जिनसे बताए गए आय के स्त्रोतों से ज्यादा की रकम जमा करवाने वाले को पकड़ा जा सकेगा। सरकार ने कई नियमों में बदलाव भी किए हैं। काले धन को खत्म करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा लोकसभा में संसोधित इनकम टैक्स बिल पास करवाया गया। नए बिल के जरिए सरकार अघोषित नकदी पर ज्यादा जुर्माना और टैक्स लगाएगी। 30 दिसंबर तक अघोषित पुराने नोटों में नकदी बारे में स्वेच्छा से घोषणा पर 50 प्रतिशत कर लगाने का प्रस्ताव किया गया है। कर अधिकारियों द्वारा पता लगाने पर अघोषित संपत्ति पर उच्चतम 85 प्रतिशत तक कर लगाया जा सकता है।


रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के डाटा के मुताबिक 10 नवंबर से 27 नवंबर तक सभी बैंकों से कुल 844,982 करोड़ रुपए जमा और बदलवाए गए हैं। इसमें से 33,948 करोड़ रुपए बदलवाए गए हैं और 811,033 करोड़ रुपए जमा करवाए गए हैं। वहीं रिजर्व बैंक की 2015-16 की वार्षिक रिपोर्ट बताती है कि 31 मार्च 2016 तक 500 और 1000 की कुल 14,17,950 करोड़ रुपए की राशि चलन में थी।

स्रोत जनसत्ता

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it