Home > सुप्रीम कोर्ट का फैसला, दाढ़ी नहीं रख सकते एयरफोर्स के जवान

सुप्रीम कोर्ट का फैसला, दाढ़ी नहीं रख सकते एयरफोर्स के जवान

 Special Coverage News |  2016-12-15 08:00:32.0  |  New Delhi

सुप्रीम कोर्ट का फैसला, दाढ़ी नहीं रख सकते एयरफोर्स के जवान

नई दिल्ली: भारतीय सेना से हटाए गए मुस्ल‍िम सैनिक मकतुम हुसैन की अपील को सुप्रीम कोर्ट ने अस्वीकार कर दिया है। धार्मिक आधार पर दाढ़ी बढ़ाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि एयरफोर्स के स्टाफ जब तक सर्विस में हैं वे दाढ़ी नहीं बढ़ा सकते

बता दें कि ड्यूटी पर रहते हुए दाढ़ी बढ़ाने के कारण मकतुम को एयरफोर्स से निकाल दिया गया था। इसके बाद उन्होंने पहले कर्नाटक हाईकोर्ट में अपील की और फिर सुप्रीम कोर्ट में। लेकिन यहां भी कोर्ट ने मकतुम की अपील को यह कहते हुए खारिज कर दी की एयरफोर्ट में सर्विस में रहते हुए कोई भी जवान दाढ़ी नहीं रख सकता।

जाने पूरा मामला

ये पूरा मामला साल 2001 का है। बताया जाता है कि मकतुम हुसैन ने अपने कमांडिंग अफसर यानी सीओ से दाढ़ी बढ़ाने को लेकर स्वीकृति मांगी थी। सीओ ने शुरुआत में तो इसकी इजाजत दे दी, लेकिन बाद में उन्हें यह अहसास हुआ कि नियमों के मुताबिक सिर्फ सिख सैनिकों को ही दाढ़ी बढ़ाने की इजाजत है।

फिर बाद में नियम के तहत सीओ ने मकतुम हुसैन को दी गई अनुमति वापस ले ली। जिसके बाद सैनिक ने इसे 'भेदभाव' मानते हुए कर्नाटक हाईकोर्ट में नियम के खि‍लाफ अपील की। इसके बाद भी जब मकतुम ने दाढ़ी नहीं काटी, वह अपनी जिद पर अड़े रहे। इन सबके बाद निर्देशों की अवहेलना करने के कारण उनके खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें सेवा से हटा दिया गया।

Tags:    
Share it
Top