Home > Archived > आज चाँद का होगा दिलकश नज़ारा,दिखेगा 68 साल में सबसे बड़ा चांद

आज चाँद का होगा दिलकश नज़ारा,दिखेगा 68 साल में सबसे बड़ा चांद

 आलोक मिश्रा |  14 Nov 2016 8:18 AM GMT  |  New delhi

आज चाँद का होगा दिलकश नज़ारा,दिखेगा 68 साल में सबसे बड़ा चांद

कार्तिक पूर्णिमा का चांद इस बार पूरे यौवन में नजर आएगा. 14 नवंबर को होने जा रहा सुपरमून अन्य दिनों की अपेक्षा 30 फीसद अधिक खुबसूरत नजर आने वाला है. चंद्रमा में यह निखार 68 साल बाद नजर आएगा. वैज्ञानिकों का कहना है कि सेल्फी के इस दौर में चांद के दीदार को मिस न करे.
सोमवार का चांद 14 फीसदी बड़ा और 30 फीसदी ज़्यादा चमकदार होगा और ऐसा इसलिए क्योंकि इस वक़्त चांद पृथ्वी के सबसे क़रीब होगा. आमतौर पर चांद और पृथ्वी के बीच का फ़ासला करीब 3 लाख 84 हज़ार किमी होता है. लेकिन सोमवार को ये फासला सिर्फ़ 3 लाख 55 हज़ार किमी ही होगा। जिससे चांद की काफी बड़ा दिखेगा.

चांद पृथ्वी के इतने करीब कैसे आ जाता है?

पहली परिस्थिति- पृथ्वी के चक्कर लगाते हुए चांद की कक्षा को दो हिस्सों में बांटा गया है. एक पेरिजी और दूसरी आपॉजी. आपॉजी में रहते हुए चांद पृथ्वी से सबसे दूर होता है और पेरिजी में होते हुए सबसे करीब.

दूसरी परिस्थिति- चांद, सूर्य और पृथ्वी के एक कतार में आने की. लेकिन इस कतार में पृथ्वी का चांद और सूर्य के बीच होना ज़रूरी है. यानि जब सूरज और चांद एक कतार में पृथ्वी के इर्द-गिर्द आ जाते हैं और चांद अपनी कक्षा के उत्तरी गोलार्ध पेरिजी में प्रवेश करता है तो होता है- सुपरमून।

सुपरमून का उदयकाल 14 नवंबर सुपरमून के दिन नैनीताल मे चंद्रोदय शाम 5.27 बजे होगा और अस्त 15 नवंबर सुबह 7.05 बजे होगा. देहरादून मे उदय 5.32 व अस्त 15 को 7.12, जबकि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में उदय 5.33 व अस्त 7.13 बजे होगा.

सुपरमून से नहीं आती सूनामी

आर्यभटट् प्रेक्षण विज्ञान शोध संस्थान (एरीज) के डॉ. शशिभूषण पांडे व भारतीय तारा भौतिकी संस्थान बेगलुरु के खगोल वैज्ञानिक प्रो. आरसी कपूर के अनुसार इस बार का सुपरमून दिलकश नजारा लेकर आने वाला है. इसका समुद्र में उठने वाले ज्वार पर विशेष प्रभाव नहीं पड़ता. सुपरमून को लेकर भूकंप या सूनामी आने की बाते कही जाती है, जो निराधार है. ऐसी अफवाहों पर विश्वास न करें.

इस साल चांद ने दिए हैं 3 बार सुपरमून के नजारे

हालांकि खुले आसमान में आपको चांद देखने पर खास फर्क महसूस नहीं होगा. लेकिन उगता चांद देखने पर ज़्यादा बड़ा और चमकदार दिखेगा. मौका 68 साल बाद आ रहा है इसलिए इसे देखने के लिए हर कोई बेताब है. बता दें, इस साल चांद ने 3 बार सुपरमून के नज़ारे दिए हैं. पिछले महीने 16 अक्टूबर को भी सुपरमून हुआ था. और ठीक एक महीने बाद 14 दिसंबर को फिर सुपरमून होगा. 14 दिसंबर का सुपरमून भी ख़ास होगा क्योंकि वो अपनी तेज़ रोशनी में उल्कापात का नज़ारा छिपा देगा.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top