Home > मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने दीप प्रज्वल्लित कर राजगीर महोत्सव का किया शुभारम्भ

मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने दीप प्रज्वल्लित कर राजगीर महोत्सव का किया शुभारम्भ

 आलोक मिश्रा |  2016-11-26 10:24:27.0  |  New delhi

मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने दीप प्रज्वल्लित कर राजगीर महोत्सव का किया शुभारम्भ

पटना - मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने आज राजगीर के किला मैदान में दीप प्रज्वल्लित करके अंतरराष्ट्रीय राजगीर महोत्सव का उदघाटन किया । आज से राजगीर महोत्सव का आगाज हो गया है । इस अवसर पर मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने महती सभा को संबोधित करते हुए कहा कि आज एक बार फिर राजगीर महोत्सव में शामिल होने का अवसर मिला है । मैं इसको अपना सौभाग्य मानता हूँ । राजगीर की अपनी गरिमा है , इसका इतिहास काफी पुराना है । राजगीर मगध साम्राज्य की राजधानी थी । राजगीर से राजधानी पटना मगध सम्राट अजातशत्रु लाये थे ।

राजगीर के जो पञ्च पर्वत है , जो पहाड़ियां है इनका भी अपना महत्व है । ये पहाड़ियां हिमालय पर्वत श्रृंखला से भी पुरानी है । ये लगभग तीन करोड़ साल पुरानी है । महाभारत काल में पांडव यहां ठहरे थे । उनके नाम पर पाण्डु पोखर है ,जिसका जीणोर्द्धार किया गया है । जो काफी सुन्दर दिखता है ।

उन्होंने कहा कि राजगीर काफी अदभुत जगह है । इसका बौद्ध धर्म से काफी पुराना सम्बन्ध है । भगवान् बुद्ध के बाद उनके विचार एवम वाणी को यहीं पर लिपिबद्ध किया गया था । राजगीर का जैन धर्म से भी काफी नजदीकी सम्बन्ध है । अगर भगवान् महावीर की बात करे तो वह राजगीर आये थे । आज भी राजगीर की पहाड़ियों पर जाए तो हर जगह जैन मंदिर मिलेगा । सूफी संत मखदूम साहब का भी राजगीर में आवास रहा था । गुरु नानक देव जी भी राजगीर आये थे । वे जहां पर ठहरे थे, वहां के कुंड का पानी ठंडा है ।

उन्होंने कहा कि राजगीर का हिन्दू धर्म से भी काफी पुराना सम्बन्ध है । राजगीर में जिस माह में मेला लगता है, ऐसी मान्यता है कि उस माह 33 करोड़ देवी देवता एक माह तक यहीं रहते है । उन्होंने कहा कि राजगीर की जो राजनैतिक ,सामाजिक , धार्मिक ऐतिहासिक पृष्ठभूमि को इतिहास के पन्नो से हटाया नही जा सकता है ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले समय में राजगीर में वाइल्ड लाइफ सफारी शुरू किया जाएगा ,इसके लिए मंजूरी मिल गयी है. । यह 192 हैक्टेयर में फैला होगा । उन्होंने कहा कि वाइल्ड लाइफ सफारी शुरू होने पर लोग राजगीर आये । यह पर्यावरण एवम पर्यटन दोनों के लिए लाभकारी होगा । यह बिहार में अदभुत होगा तथा देश के गिने चुने सफारी में से एक होगा ।


मुख्यमंत्री ने कहा कि राजगीर का इतिहास सदभावना का इतिहास है ,प्रेम एवम भाईचारा का इतिहास है । समाज में सदभाव कायम रहे ,आपस में प्रेम एवम भाईचारा का माहौल अगर बना रहे तो हमे ऊंचाईयों को छूने से कोई नही रोक सकता है । उन्होंने कहा कि लोग स्मार्ट सिटी बनाते है ,हम सात निश्चय के कार्यान्वयन के फलस्वरूप गांव में रहने वाले सब लोगो के जीवन को स्मार्ट बना देना चाहते है । उन्होंने लोगो से अपील की कि सदभाव एवम प्रेम का माहौल बनाये रखें । उन्होंने कहा कि शराब बंदी से बड़ा सामाजिक काम हुआ है ,इससे समाज का माहौल काफी अच्छा हो गया है ।

आज राजगीर महोत्सव के अवसर पर मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने विभिन्न विभागों द्वारा लगाए गए प्रदर्शनी का अवलोकन किया । निरिक्षण के क्रम में मुख्यमंत्री ने कृषि विभाग द्वारा लगाए गए नीरा के उत्पादन एवम ताड़ के पेड़ के उत्पाद से सम्बंधित स्टॉल का निरीक्षण किया । इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने राजगीर से सम्बंधित ऐप एवम पुस्तक का लोकार्पण किया ।

इस अवसर पर पर्यटन मंत्री अनिता देवी ,ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार, अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री अब्दुल गफ्फूर ,सांसद कौशलेन्द्र कुमार, विधायक हरी नारायण सिंह, विधायक जीतेन्द्र कुमार, विधायक अनी मुनी उर्फ़ शक्ति यादव, विधायक चन्द्रसेन यादव,विधायक रवि ज्योति कुमार, विधान परिषद् हीरा प्रसाद विन्द, जिला परिषद् अध्यक्षा तनुजा देवी ,पूर्व शिक्षा मंत्री तरुण, नालंदा के जिलाधिकारी ,नालंदा के वरीय पुलिस अधीक्षक सहित कई अन्य गणमान्य व्यक्ति एवम वरीय अधिकार उपस्थित थे ।

आज अंतरराष्ट्रीय राजगीर महोत्सव के पहले दिन सर्वधर्म प्रार्थना का आयोजन किया गया तथा अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त गायक उदित नारायण झा द्वारा गायन कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया ।

मुख्यमंत्री ने ख्याति प्राप्त गायक उदित नारायण झा को प्रतीक चिन्ह एवम शॉल भेंटकर सम्मानित किया ।

Tags:    
Share it
Top