Home > Archived > इस महिला कॉन्स्टेबल के सोशल मीडिया पर है लाखों फॉलोवर्स,वजह जानकर करोगे सलाम

इस महिला कॉन्स्टेबल के सोशल मीडिया पर है लाखों फॉलोवर्स,वजह जानकर करोगे सलाम

 आलोक मिश्रा |  4 Nov 2016 10:41 AM GMT  |  New delhi

इस महिला कॉन्स्टेबल के सोशल मीडिया पर है लाखों फॉलोवर्स,वजह जानकर करोगे सलाम

छत्तीसगढ़ पुलिस की महिला कॉन्सटेबल स्मिता टांडी इन दिनों फेसबुक पर छाई हुई हैं. स्मिता जरूरतमंद लोगों तक पहुंचती हैं और फेसबुक के ज़रिए उनकी मदद करती हैं. फेसबुक पर उनकी पापुलैरिटी किसी सेलेब्रिटी से कम नहीं है. फेसबुक पर उनके 7 लाख के करीब फॉलोवर्स हैं, जो कि सिर्फ़ 20 महीने के अंदर बने हैं.

स्मिता अपनी पोस्ट के जरिए ज़रूरतमंद लोगों की समस्या को फेसबुक पर रखती हैं और लोगों से मदद की अपील करती हैं.

स्मिता बताती हैं कि जब 2013 में वह पुलिस की ट्रेनिंग ले रही थीं, उसी दौरान उनके पिता शिव कुमार बीमार हो गए और उनके इलाज के लिए पर्याप्त पैसे नहीं थे. वह खुद पुलिस में कॉन्सटेबल थे, लेकिन 2007 में दुर्घटना के बाद उन्होंने रिटायरमेंट ले लिया था. अस्पताल में अचानक उनकी मौत हो गई. 'तब मैंने सोचा कि पैसों की कमी के कारण हजारों लोगों की मौत हो जाती है और मैंने उनकी मदद करने का फैसला किया.

2014 में अपने दोस्तों के साथ मिलकर टांडी ने फेसबुक ग्रुप बनाया, जहां उन्होंने मरीजों की फोटो डालते हुए वित्तीय मदद देने की लोगों से अपील की थी. सिर्फ़ फेसबुक पेज से ही नहीं, स्मिता ने सरकारी योजनाओं के जरिए भी पैसा इकट्ठा किया, जिनके बारे में लोगों को ज्यादा पता नहीं होता है.

उन्होंने बताया कि 'मैंने लोगों की समस्या का पता लगाकर फेसबुक पर लाना शुरू किया. शुरू में लोग मेरी पोस्ट पर रिस्पॉन्ड नहीं करते थे, लेकिन एक महीने बाद लोगों ने पैसे दान करना शुरू किया. मेरा मानना है कि लोगों को विश्वास हआ कि मैं फ़र्ज़ी नहीं हूं और उन्होंने मेरा विश्वास किया.'

स्मिता ने बताया कि आस-पास के इलाके में जब उन्हें पता चलता है कि किसी को मदद की जरूरत है, तो वह खुद वहां पहुंचती हैं और सारी जानकारी एकत्र करके उसकी पुष्टि करती हैं. इसके बाद फेसबुक पर मदद की अपील करते हुए पोस्ट करती हैं. वह अस्पताल का बिल चुकाने में 25 लोगों की मदद कर चुकीं हैं और फेसबुक के जरिए मदद करने के संबंध में उनका कहना है कि उन्हें संख्या तो याद नहीं, लेकिन यह 100 तो होगी ही. स्मिता के कामों में बारे में उनके सीनियर अधिकारियों को पता है, इसके चलते उन्हें भिलाई वुमेन हेल्पलाइन के सोशल मीडिया कंप्लेंट सेल में रखा गया है.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top