Top
Home > Archived > जयललिता की कुछ ख़ास बातें जो, जो आप नहीं जानते हो?

जयललिता की कुछ ख़ास बातें जो, जो आप नहीं जानते हो?

 Special Coverage News |  6 Dec 2016 8:51 AM GMT  |  New Delhi

जयललिता की कुछ ख़ास बातें जो, जो आप नहीं जानते हो?

जयललिता ने बाजपेई सरकार को पहले समर्थन देने का एलान किया बाद में उन्होंने दो शर्त रखी। पहली शर्त कि सुब्रमण्यम स्वामी को वित्त मंत्री बनाया जाए और दूसरी शर्त तमिलनाडु की करुणानिधि सरकार को बर्खास्त कर दिया जाए बाजपेई जी ने दोनों शर्त को मानने से इनकार कर दिया फिर सुब्रमण्यम स्वामी जयललिता को लेकर सोनिया गांधी के घर चाय पर गए और वह घटना इतिहास में चाय की प्याली में तूफान नाम से दर्ज है जब जयललिता ने अपने समर्थन का पत्र राष्ट्रपति जी को नहीं भेजा और बाजपेई जी की सरकार एक मत से गिर गयी।


इसलिए राजनीति में यह कहा जाता है कि सुब्रमण्यम स्वामी और जयललिता की दुश्मनी जितनी खतरनाक है उससे ज्यादा खतरनाक इनकी दोस्ती है। मजे की बात देखिए बाद में सुब्रमण्यम स्वामी जो कभी राजीव गांधी सोनिया गांधी और जयललिता के बहुत जिगरी दोस्त हुआ करते थे बाद में वही सुब्रमण्यम स्वामी हैं इनके सबसे जानी दुश्मन बन गए।


1985 में जब एम जी रामचंद्रन इलाज के लिए अमेरिका गए तब जयललिता ने खुद को मुख्यमंत्री का दावेदार घोषित कर दिया जयललिता की इस हरकत से एम जी रामचंद्रन इतने दुखी हुए कि उन्होंने अमेरिका से ही जयललिता को पार्टी के संसदीय बोर्ड और पार्टी से निकाल दिया था। जब जयललिता पहली बार मुख्यमंत्री बनी तब उन्होंने मात्र ₹1 सैलरी लेने का एलान किया और मजे की बात यह सिर्फ 4 साल में उन की संपत्ति 122 करोड़ रुपए हो गई और जब सीबीआई ने उनके घर पर छापा मारा था तब 40 किलो सोना 2 कुंटल चांदी 100 से ज्यादा महंगी घड़ियां 4000 साड़ियां 3000 सैंडल और कार्टियर के 20 चश्में मिले थे। जयललिता को दो केस में अदालत द्वारा दोषी पाया जा चुका है पहला आय से अधिक संपत्ति रखने का केस और दूसरा तानसी जमीन घोटाले का केस । तामसी जमीन घोटाले पर उन्हें 4 साल की सजा भी सुना दी गई है और आय से अधिक मामले वाले केस में उन्हें 3 साल की सजा सुना दी गई है लेकिन यह भारत का न्याय तंत्र है जो सिर्फ पैसे वालों और प्रभावशाली लोगों की जेब का गुलाम है वरना आज अगर कोई साधारण इंसान होता तो दर दर की ठोकरे खाता ।


संजोग देखिए आज ही पेपर में पढ़ा की डीटीसी का एक कंडक्टर 1985 से ही सिर्फ पांच पैसे के गबन को लेकर केस लड़ रहा है और उसके इसमें अब तक उसके 10 लाख से ज्यादा रुपए खर्च हो चुके हैं वो बेचारा नौकरी से बर्खास्त है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it