Home > Archived > 2005 दिल्ली सीरियल ब्लास्ट केसः मोहम्मद रफिक अौर मोहम्मद हुसैन बरी, डार दोषी करार

2005 दिल्ली सीरियल ब्लास्ट केसः मोहम्मद रफिक अौर मोहम्मद हुसैन बरी, डार दोषी करार

 Admin2 |  16 Feb 2017 11:54 AM GMT  |  New Delhi

2005 दिल्ली सीरियल ब्लास्ट केसः मोहम्मद रफिक अौर मोहम्मद हुसैन बरी, डार दोषी करार

नई दिल्ली : 2005 सीरियल ब्लास्ट मामले में पुलिस को करारा झटका लगा है। पुलिस किसी भी आपराधी के खिलाफ हत्या, हत्या का प्रयास और देश द्रोह जैसा आरोप साबित करने में नाकाम रही है। पटियाला हाउस कोर्ट ने इस मामले में महज एक आरोपी तारिक अहमद डार को दोषी ठहराया है। डार को सिर्फ गैर कानूनी गतिविधियों में शामिल होने का दोषी माना गया है। उसे दस साल की सजा हुई है। उसमें अधिकतम दस साल की सजा का प्रावधान है इसलिए अदालत ने उसे तुरंत रिहा करने का आदेश दिया है जबकि मामले के अन्य दो आरोपी मोहम्मद रफीक, मोहम्मद फाजली को सभी आरोपों से बरी कर दिया।

बता दे की वर्ष 2005 में 29 अक्तूबर की शाम जब में लोग धनतेरस की खरीददारी कर रहे थे। तभी एक के बाद एक तीन जगहों पर बम धमाके हुए। इस बम धमाके में कुल 62 लोगो की मौत हुई थी और 210 से ज्यादा लोग घायल हुए थे।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it
Top