Top
Home > Archived > केशवपुरम में 4 साल की बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या: गृहमंत्री राजनाथ को लिखी योगेन्द्र यादव ने चिठ्ठी!

केशवपुरम में 4 साल की बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या: गृहमंत्री राजनाथ को लिखी योगेन्द्र यादव ने चिठ्ठी!

 Special Coverage News |  24 Nov 2016 1:15 PM GMT  |  New Delhi

केशवपुरम में 4 साल की बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या: गृहमंत्री राजनाथ को लिखी योगेन्द्र यादव ने चिठ्ठी!

दिल्ली: केशवपुरम में हुए 4 साल की बच्ची से दुष्कर्म और हत्या के मामले में पुलिस द्वारा अब तक की ढीली कार्यवाई को देखते हुए स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेन्द्र यादव ने गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह को चिट्ठी लिखी। इस चिट्ठी में उन्होंने इंसाफ़ की मांग को लेकर शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने वाले पीड़ित परिवार और स्वराज इंडिया के कार्यकर्ताओं पर कल हुए दमनकारी पुलिस कार्यवाई पर भी कड़ी आपत्ति जताई और नागरिक के संवैधानिक अधिकारों का हवाला दिया।


इस चिट्ठी के माध्यम से योगेन्द्र यादव ने गृहमंत्री से निवेदन किया है कि इस गंभीर एवं अत्यंत संवेदनशील मामले का संज्ञान लें और पीड़ित परिवार की न्याय की गुहार पर त्वरित कार्यवाई करें। उन्होंने यह भी कहा है कि अगर परिणाम नहीं आते तो अगली बार पुलिस किसी भी हथकंडे या तिकड़मबाजी से इंसाफ़ के लिए उठ रही जनता की आवाज़ दबा नहीं पाएगी।

सेवा में

श्री राजनाथ सिंह जी

माननीय केंद्रीय गृह मंत्री

विषय: केशवपुरम में हुए 4 साल की बच्ची से दुष्कर्म और हत्या का मामला।

दिल्ली में चार साल की बच्ची से दुष्कर्म और हत्या की एक अत्यंत दुखद और दिल दहला देने वाली घटना सामने आयी है। शायद आपकी पुलिस ने इसकी जानकारी आपको दी हो। केशवपुरम के एन-86 इंडस्ट्रियल एरिया की झुग्गियों से रविवार 20 नवम्बर शाम 7 बजे बच्ची ग़ायब हुई थी। गुड़िया के परिवार वालों ने तुरंत केशवपुरम थाने में शिकायत की, लेकिन अगले दिन सुबह 7 बजे बच्ची की लाश ही मिली। यदि पुलिस ने मामले की गंभीरता को समझते हुए तुरंत छानबीन की होती तो घटना को रोका जा सकता था।


आज चार दिन बीतने के बाद भी इस जघन्य अपराध को अंजाम देने वाला आरोपी पुलिस की पकड़ से बाहर है। वो भी तब जबकि अपराधी की पहचान पहले दिन ही हो चुकी थी।


आपको ये बताने की आवश्यकता नहीं कि पीड़ित परिवार और स्थानीय समाज पर इस घटना के बाद क्या बीत रही होगी। उनमें भारी आक्रोश है। गुड़िया को वापिस तो नहीं लाया जा सकता लेकिन अपराधी और ज़िम्मेदार पुलिसवालों पर उचित कार्यवाई करके कुछ इंसाफ़ किया जा सकता है।


इंसाफ़ की आस में ही गुड़िया के परिवारवाले और स्वराज इंडिया के सदस्यों ने बुधवार शाम 4 बजे आईटीओ स्थित दिल्ली पुलिस मुख्यालय पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन की योजना बनायी। लेकिन दिल्ली पुलिस ने परिजनों और स्थानीय समाज के लोगों को उनके झुग्गियों में ही जबरन रोक लिया। केशवपुरम थाना एसएचओ ने बिना कोई कारण बताये उन्हें आईटीओ जाने से रोक लिया। साथ ही उन्हें डराया धमकाया गया। यहाँ तक कि पीड़ित परिवार को घर से निकलने नहीं दिया। शायद स्थानीय पुलिस अधिकारियों को इंसाफ़ दिलाने से ज़्यादा पुलिस मुख्यालय पर अपनी बेइज़्ज़ती हो जाने का डर था। साथ ही पटेल नगर स्थित स्वराज इंडिया के दफ़्तर पर भी पुलिस भेज दी गयी।


एक मानव त्रासदी से जूझ रहे लोगों पर इस तरह की दमनकारी पुलिसिया कार्यवाई क्या आपको जायज़ लगती है? इंसाफ़ की मांग के लिए शांतिपूर्ण प्रदर्शन करना हमारा संविधानिक अधिकार है। दिल्ली पुलिस हमसे ये अधिकार कैसे छीन सकती है?


मंत्री जी, आप बहुत अच्छे से समझते होंगे कि जब ऐसे मामलों को पुलिस बलपूर्वक दबाने की कोशिश करती है तो आम लोगों का गुस्सा और उबाल मारता है। मुझे बहुत अफ़सोस है कि आपकी पुलिस ने पीड़ित को न्याय दिलाने की बजाये, उनकी आवाज़ दबाने की कोशिश की।


हमारा उद्देश्य कभी भी बेवजह हंगामा करना या अराजकता फैलाना नहीं रहा है। हम तो विरोध भी हमेशा शांतिपूर्वक ढंग से, पुलिस के बताये नियमों का पालन करके करते हैं।


दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिशनर संजय सिंह ने स्वराज इंडिया के ज़िम्मेदार सदस्यों को बताया कि पिछले चार दिनों से बिना सोये उनकी टीम इस केस पर काम कर रही है। एक टीम बिहार भी भेजी गयी है और उन्हें पूरी उम्मीद है कि आरोपी जल्द ही गिरफ़्त में होगा। लापरवाही बरतने वाले पुलिसवालों पर भी विभागीय जाँच के बाद उचित कार्यवाई करने का भरोसा दिलाया है। लेकिन अब तक कुछ भी सार्थक परिणाम नहीं दिखे हैं।


आपसे निवेदन है कि इस गंभीर एवं अत्यंत संवेदनशील मामले का संज्ञान लें और पीड़ित परिवार की न्याय की गुहार पर त्वरित कार्यवाई करें। अगर परिणाम नहीं आते तो अगली बार आपकी पुलिस किसी भी हथकंडे या तिकड़मबाजी से इंसाफ़ के लिए उठ रही हमारी आवाज़ दबा नहीं पाएगी।

योगेंद्र यादव

राष्ट्रीय अध्यक्ष, स्वराज इंडिया

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it