Top
Home > Archived > टाइम्स ऑफ़ इण्डिया के सर्वे में 71% जनता ने नकार दी नोट बंदी, खुद ही देख लें सर्वे!

टाइम्स ऑफ़ इण्डिया के सर्वे में 71% जनता ने नकार दी नोट बंदी, खुद ही देख लें सर्वे!

 Special Coverage News |  28 Nov 2016 7:57 AM GMT  |  New Delhi

टाइम्स ऑफ़ इण्डिया के सर्वे में 71% जनता ने नकार दी नोट बंदी, खुद ही देख लें सर्वे!

नई दिल्ली: नोटबंदी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एप के द्वारा की गई सर्वे के विपरीत आ रहे है. मोदी के एप के सर्वे के साथ टाइम्स ऑफ इंडिया के ऑनलाइन सर्वे में प्रधानमंत्री मोदी को जबर्दस्त झटका लगा है. 71 प्रतिशत लोगों ने नोटबंदी को लेकर अपनी नाराज़गी जाहिर की है.


28 नवंबर को दोपहर 1 बजे तक 56 प्रतिशत लोगों ने इसे एक ऐसा खराब फ़ैसला बताया है जिसे ग़लत तरीक़े से लागू किया गया. जबकि 15 प्रतिशत लोग कह रहे हैं कि फ़ैसला अच्छा लेकिन ठीक ढंग से लागू नहीं किया गया. इस तरह से कुल 71 प्रतिशत लोगों ने नोटबंदी को लेकर नाराज़गी अपनी जाहिर की है. सिर्फ़ 29 प्रतिशत लोग ही इसके पक्ष में हैं जो लोकसभा चुनाव में बीजेपी को मिले 31 प्रतिशत वोटों से दो प्रतिशत कम हैं.


जबकि प्रधानमंत्री के एप सर्वे में कुल पाँच लाख लोगों ने भाग लिया था, जो मोदी के ट्विटर पर फॉलोवर्स के मुकाबले बहुत कम हैं. मोदी ने अपने ऐप के सर्वे को देश की नब्ज़ कहकर प्रचारित किया था. उसमें करीब 90 प्रतिशत लोगों ने नोटबंदी का समर्थन किया था. उसमें इस फ़ैसले को ख़राब बताने का कोई विकल्प नहीं था.

इस लिंक पर जाकर आप भी सर्वे में भाग ले सकते है

लेकिन टाइम्स ऑफ इंडिया के सर्वे में जनता की राय ठीक-ठीक जानी जा सकती है.

लोगों से पूछा गया

1-नोटबंदी-अच्छा फैसला और ठीक ढंग से लागू हुआ

2-नोटबंदी – अच्छा फैसला लेकिन ठीक ढंग से लागू नहीं किया गया

3-नोटबंदी – खराब फैसला और ग़लत तरीक़े से लागू किया गया

मोदी ऐप के नतीजों के उलट टाइम्स ऑफ इंडिया के सर्वे में जनता की नाराज़गी सामने आगया.कुछ दिनों से जारी सर्वे में सबसे ज्यादा वोट तीसरे तीसरे विकल्प पर पड़ रहे हैं.हर दिन के साथ यह एक ही यानी विरोध की दिशा में जा रहा .कल तक 53 प्रतिशत लोग तीसरे विकल्प को चुन रहे थे जो आज 56 प्रतिशत हो गया.

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it