Top
Home > Archived > नोटबंदी से हुई मौतों पर माफी तो मांग सकते थे, PM सहानुभूति तो दिखा सकते थे- गुलाम नबी आजाद

नोटबंदी से हुई मौतों पर माफी तो मांग सकते थे, PM सहानुभूति तो दिखा सकते थे- गुलाम नबी आजाद

 Special Coverage News |  9 Dec 2016 10:03 AM GMT  |  New Delhi

नोटबंदी से हुई मौतों पर माफी तो मांग सकते थे, PM सहानुभूति तो दिखा सकते थे- गुलाम नबी आजाद

नई दिल्ली: नोटबंदी के फैसले को पूरा एक महीना बीत चुका है, लेकिन विपक्ष इस फैसले पर केंद्र सरकार को पहले दिन से घेर रहा है। नोटबंदी के मुद्दे पर सदन में मचे सियासी घमासान पर कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद ने गुरुवार को नोटबंदी से हुई मौतों पर मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, 'प्रधानमंत्री सहानुभूति तो दिखा सकते थे, माफी तो मांग सकते थे।'

गुरुवार को मीडिया को संबोधित करते हुए गुलाम नबी आजाद ने कहा, 'विपक्ष दोनों सदनों में मांग कर रहे हैं कि दुनिया में लोग मर जाते हैं तो हम दोनों सदनों में श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। नोटबंदी से मरने वालों की संख्या जब 40 हुई, तब भी हमने मांग की, 80 हुई, तब मांग की पर सरकार टस से मस नहीं हुई। अभी तक नोटबंदी से 100 से ज्यादा लोगों की मौतें हुई हैं। हम उन्हें श्रद्धांजलि देना चाहते थे लेकिन सरकार ने ऐसा नहीं करने दिया।'

वहीं नोटबैन पर आज कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि हम पिछले एक महीने से नोटबैन पर बात करने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन सरकार चर्चा से घबरा रही है। हम चाहते हैं कि दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए। नोटबंदी हिंदुस्तान की हिस्ट्री का सबसे बड़ा घोटाला है, मैं लोकसभा में बोलना चाहता हूं, वहां सब बताऊंगा। अगर सरकार मुझे लोकसभा में बोलने दे तो आप देखिएगा, भूकंप आ जाएगा।

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it