Home > Archived > CM शिवराज सिंह चौहान के विधान सभा क्षेत्र में गेहूं,केरोसिन,शक्कर की कालाबाजारी

CM शिवराज सिंह चौहान के विधान सभा क्षेत्र में गेहूं,केरोसिन,शक्कर की कालाबाजारी

 Kamlesh Kapar |  10 March 2017 5:35 AM GMT  |  सीहोर

CM शिवराज सिंह चौहान के विधान सभा क्षेत्र में गेहूं,केरोसिन,शक्कर की कालाबाजारी

सीहोर: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के विधान सभा क्षेत्र में आने वाली नसरुल्लागंज क्षेत्र में समिति के द्वारा गेहूं केरोसिन शक्कर की काला बाजारी जोरो पर चल रही है. पिछले तीन चार महीने से उपभोक्ताओं के हिस्से का राशन की काला बाजारी का खेल यहां चल रहा है. उपभोक्ताओं के राशन कार्ड पर तीन चार महीने का राशन तो चढ़ा दिया मगर उन्हें दिया नही गया जिसका खुलासा खाद अधिकारी एवं शाखा प्रबंधक के गजेन्द्र दुबे के निरीक्षण में पता चला और कार्रवाही की गई.

खाद अधिकारी एवं शाखा प्रबंधक निरीक्षण के लिए सतराना एवं राला सेवा सहकारी समिति में पहुंचे थे और सतराना में केरोसिन,गेहूं एवं शक्कर की मात्रा कम पाई गई. वहीं राला में मात्रा से अधिक केरोसिन पाया गया. इसमें सेल्समेन के द्वारा कालाबाजारी करने के हिसाब से उपभोक्ताओं के कार्ड पर केरोसिन को चढ़ा लिया गया था परंतु उसका वितरण नही किया था. समिति में हो रहे गोलमाल कालाबाजारी को पाया तो स्वयं अधिकारी भी हक्के बक्के रह गए. कार्ड पर चढ़ाया केरोसिन पर नही बांटा उपभोक्ताओं को हमेशा गड़बड़ी को लेकर चर्चाओं में रहने वाले सेवा सहकारी समिति राला के सेल्समेन एक बार फिर गड़बड़ी किए जाने को लेकर पकड़े गए है. यहां पर जब खाद्य अधिकारी राजीव वर्मा व प्रबंधक गजेन्द्र दुबे ने जांच की तो 1896 लीटर केरोसिन अधिक पाया गया. जबकी उपभोक्ताओं के कार्ड पर सेल्समेन के द्वारा केरोसिन चढ़ा दिया गया था और कालाबाजारी करने के उद्देश्य से उसता वितरण नही किया गया था. यहां पर एक और महत्वपूर्ण गड़बड़ी देखने को मिली जिसमें पारदी पुरा व अकावल्या के हितग्राहियों को 3 माह से राशन का वितरण नही किया गया था परंतु उपभोक्ताओं की पर्ची पर यह राशन चढ़ा हुआ था. इस मामले में एक बार फिर सेवा सहकारी समिति राला का सेल्समेन चर्चाओं में बना हुआ है. बीते 18 जनवरी 2014 व 29 अगस्त 2015 को यहां पर पदस्थ सेल्समेन को हटाए जाने के लिए कहा भी गया परंतु अध्यक्ष नारायण सिंह मुकाती के द्वारा अपनी निजी लालच के चलते सेल्समेन को नही हटाया गया. जिसके चलते एक बार फिर कालाबाजारी की स्थिति सामने आ रही है. केरोसिन,गेहूं व शक्कर थी कम अधिकारियों ने जब सेवा सहकारी समिति सतराना का निरीक्षण किया तो यहां का गोलमाल स्टाक चेक करने के दौरान सामने आ गया. यहां पर 3638 लीटर केरोसिन,86 क्विंटल गेहूं एवं 6.96 क्विंटल शक्कर कम पाई गई.

स्टाफ से पूछताछ की गई तो वह कुछ भी जबाब नही दे सके. पूर्वमें भी ऐसे स्थितियां कई बार देखने को मिली है. सहकारिता विस्तार अधिकारी नही रहते मुख्यालय पर लगातार आ रही गड़बड़ी एवं कालाबाजारी की शिकायत का मुख्य कारण सहकारिता विस्तार अधिकारी का मुख्यालय पर नही रहना है. ग्रामीणों के मुताबिक अधिकारी के द्वारा समितियों के कार्यालयों में जाकर माह में एक बार ही रस्म अदायगी की जाती है और कई लोगों ने तो यह भी बताया कि वह अपनी भेंट पूजा लेकर चले जाते है. जबकि उनका मु यालय नसरूल्लागंज है लेकिन वह अपना अधिकांश समय सीहोर में ही गुजारते है. मामले में जिला सहकारी केंद्रीय बैंक नसरुल्लागंज के शाखा प्रबंधक गजेन्द्र दुबे ने बताया कि सेवा सहकारी समिति राला एवं सतराना में किए गए निरीक्षण के दौरान कमियां देखने को मिली है और राला में कालाबाजारी की आशंका सबसे अधिक नजर आ रही है. इस मामले में बार-बार सहकारिता विस्तार अधिकारी एवं उपायुक्त सीहोर को जानकारी दिए जाने के बावजूद भी कार्यवाही नही की जा रही. साथ ही यह भी शिकायत सुनने को मिल रही है कि सहकारिता विस्तार अधिकारी मुख्यालय पर मौजूद नही रहते.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top