Home > Archived > सत्ता के अहंकार में डूबे है भाजपाइयों के संस्कार!

सत्ता के अहंकार में डूबे है भाजपाइयों के संस्कार!

 मो हफीज |  22 Nov 2016 1:39 AM GMT  |  जयपुर

सत्ता के अहंकार में डूबे है भाजपाइयों के संस्कार!

जयपुर मो हफीज व्यूरो चीफ राजस्थान

हमारे देश में राष्ट्रवादी सरकार के एक निर्णय से देश की जनता बैंको में कतार में खड़ी हो गयी है I बूढा बाप बेटी की डोली उठाने से पहले ही दुनिया छोड़ कर जा रहा है I गरीब का बेटा बाप की बाहों में दम तोड़ रहा है बाप के हाथो में पैसे है जो चलते नही है और आँखों में बेबसी के आंसू है जो थमते नही है I घरो में मोत का सन्नाटा पसरा है घर में एक मात्र कमाने वाले बाप की अचानक हुई मौत के बाद दुखी घर वालो का दिल गम से भरा है I आंसुओ की बदरा दिल के गम को आंसुओ के द्वारा बाहर निकालने को बेताब है I क्या सितम है राष्ट्रवाद के नाम पर अंधी बहरी सरकार ने बाप की मौत पर परिवार के रोने पर भी बेन लगा रखा है I



राष्ट्र के नाम पर कुर्बानी देने की नसीहत देने वालो से हमारा सवाल है कि क्यों देश की सीमा से लेकर बैंको की लाईन में गरीब किसान ही जान की कुर्बानी देता है I मंत्री, विधायक, अफसर, अडाणी, अम्बानी देश के सांसदों की कोख क्या बाँझ हो गयी है I गरीब की मौत की चिंता उसकी चिता की राख की तरह ठंडी पड चुकी है I देश के प्रधानमंत्री इन सब से बेखबर बने हुए है लगातार प्रधानमंत्री महोदय देश की जनता को धमकी पर धमकियाँ दे रहे है सत्तर साल का हिसाब ले लूँगा छोडूंगा नही एसा प्रतीत हो रहा है देश के प्रधानमंत्री का विश्वास देश के लोकतंत्र अदालतों में नही है I देशवासी अपना ही बैंको में जमा पैसा निकालने के लिए गैर-कानूनी रूप से बैंको के बाहर लाइन में खड़े कर दिए गए है I



देश आर्थिक आपातकाल के साथ तानाशाही के नए दौर में जा रहा है I वैसे देश में भारतीय जनता पार्टी व संघ के लोग दावे करते है की देश में वे एक मात्र देश भक्त है I राष्ट्रवादी होने के संघ भाजपा के अपने-अपने दावे है I वर्तमान राजनैतिक परिदृश्य में संघ भाजपा के देश धर्म, गाय, मंदिर, संस्कृति के रक्षक होने के दावो को आगे बढ़ाने में भांड रूपी देश के मिडिया घरानों ने बहुत मदद की है I



देश में एक मात्र भाजपा ऐसी पार्टी है जिसके नेता राष्ट्रवाद के नाम पर राष्ट्र के निरीह दलित अल्पसंख्यक वर्गों के लोगो की हत्या के साथ राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की हत्या को भी जायज मानते है I राष्ट्र के सामने व्यापारिक घरानों के राष्ट्रवादी टीवी चैनलों पर दिन रात भाजपा संघ के इशारो पर देश में झूठ परोसा व् फैलाया जा रहा है I जब जब देश में किसी राज्य के चुनाव करीब आते है तब देश की जनता को भावनात्मक रूप से भड़काने के लिये राष्ट्रवाद धर्म के साथ मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम की घुट्टी पिलाई जाती है I चुनाव होने के पश्चात इन कर्म कांडी भाजपाइयों के साथ संघ के लोग शांत होकर बैठ जाते है I सत्ता प्राप्ती के पश्चात् ये जुमले बाज भृष्टाचार के दलदल में आकंठ डूब जाते है I सत्ता के अहंकार से ग्रसित होकर ये तथाकथित देश भक्त देश की जनता के साथ सरकारी धन को लूटने के राष्ट्रहित के कर्म करने में सभी पूर्व वृति सरकारों को पीछे छोड़ देते है I ठीक ऐसे ही हालत राजस्थान राज्य की भाजपा सरकार व् इसके संगठन में दिखाई दे रही है I संघ के लोग कहते है की व्यक्ति से बड़ा समाज व् समाज से बड़ा राष्ट्र होता है I परन्तु दीपावली के त्योहारी सीजन में मिलावट करने वालो की फ़ौज के साथ भाजपा संघ के लोग खड़े है I


राज्य को चिकन गुनिया ने बुरी तरह जकड रखा है I लोग मौसमी बिमारियों से हारकर अपना जीवन व् जीवन की जमा पूंजी हार रहे है I जनता के स्वास्थ्य की खोज खबर लेने वाला प्रदेश का चिकित्सा विभाग खुद बीमार होकर भृष्टाचार के लकवे की चपेट में आया हुआ है I चिकित्सा मंत्री डॉक्टर के स्थानांतरण में मलाई खोज रहे है I भाजपा के संगठन के साथ पूरी सरकार मुख्यमंत्री के इर्द गिर्द सिमट कर रह गई है संघ के राष्ट्रवादियों के पेट्रोल पंप अब तेल के साथ शिक्षको के ट्रान्सफर की पर्चिया उगल रहे है I वैसे भी जयपुर से शिक्षामंत्री बने इन मंत्री जी के पुत्र भी ट्रान्सफर की दलाली में काले हाथ करने के लिए जाने जाते है I राज्य के एक अन्य संघ निष्ठ मंत्री चतुर्वेदी साहब की सिविल साइंस में हालत खस्ता है I अवैध निर्माण की वसूली लेने वाले नगर निगम के भृष्ट अधिकारी अक्सर मंत्री जी की कोठी पर नज़र आते है I इनके क्षेत्र के वार्ड 24 के पार्षद स्वयं लूट की राशि मिलते ही मंत्री जी के फोन से अवैध निर्माण करवाने के शुभ कार्य कर रहे है I


राजधानी में राम मंदिर वालो की सरकार के रामजादे मंत्री विधायक शिव मंदिर के इतिहास से अनजान बनकर छोटी चोपड पर शिव धाम तुडवा देते है I जयपुर के राजा जय सिंह के द्वारा बनवाए मंदिर सहित सैकड़ो मंदिर टूटने पर रामजादो की जुबान ख़ामोशी धारण कर लेती है I मंदिर तोड़ने से पहले राजधानी की पुलिस के डंडे से पुजारियों को राजधर्म का पाठ पढ़ाया जाता है I सांकेतिक रूप से फिर नाक बचाने को संघ विएचपी के लोग जयपुर बंद का आह्वान करते है I इससे पूर्व जयपुर की जनता के तेवरों के कारण संघ के ये राम भक्त सहम जाते है I जयपुर में आम जनता यहाँ तक कह देती है कि जयपुर में औरंगजेब के शासन में भी इतने मंदिर नही टूटे जितने भाजपा सरकार में टूटे है I राम मंदिर के नाम पर खून बहाने वाले मंदिर समर्थक संघ भाजपा के लोग सत्ता प्राप्त होते ही शिव धाम से देवो के देव महादेव को परिवार सहित उजाड़ देते है I देश की बेगुनाह जनता को गाय और मंदिर के नाम पर मारने के आदतन उपराधी भाजपा संघ के लोगो के आतंक से भगवान् शिव भी नही बच पाए है I देश की सेना के शहीद के लहू से यदा कदा माथे पर तिलक लगाकर संघ भाजपा के ये शूरवीर देश भक्ति का स्वांग करते है I देश की सीमा पर पाकिस्तानियों के खून से होली खेलने में देश के किसान मजदूर का बेटा अपना खून बहाता है I जब से केंद्र में मोदी सरकार बैठी है तभी से ये भी देश भर में देशवासियों का खून बहाकर स्वयं पर चढ़ी देश भक्ति का नशा उतार रहे है I अब भाई देश कीसीमा पर खून बहाने व् दुश्मन की सेना से लड़ने में जान जाने का खतरा उठाना पड़ता है जो हम देश भक्त कलियुगी राम भक्तो को मंजूर नही है I खून कही भी बहे किसी का भी बहे इसके बहने से हमारा कलेजा ठंडा होता है I साथ ही हमारी शूरवीरता का आत्म मुग्ध करने वाला हमारा भ्रम भी हमारे भीतर के राष्ट्रवादी अहम को संतुष्ठ कर देता है I



सैनिक देश की सीमा पर गोलिया खाकर प्राण दे रहे है I उनके शरीर देश की आनबान शान तिरंगे झंडे में लिपटकर अंतिम संस्कार के लिए मोक्ष धाम लाये जा रहे है I हम भी देश के तिरंगे में लिपटाकर दादरी काण्ड के मुजरिम को भी शहीद मानकर उस का सम्मान कर रहे है I पहले भी तो हम राष्ट्र पिता के हत्यारे को भगवान बनाकर उसका मंदिर भी तो बना चुके है I हमारे कृत्य चाहे जो भी रहे हमारी एक अलग ही दुनिया है I हम संघ की पाठशाला में पढ़कर सत्ता प्राप्ति के लिए देश धर्म, मर्यादा, तिरंगे के सम्मान अपमान सभी से वोट प्राप्त कर ने शुभ कर्म करने वाले है I हमारे लिए सत्ता ही संजीवनी बूटी है इसके बिना हम केसे अपनी आने वाली पीढ़ियों के सुख सपनों का आबाद करने के लिए धन संचय कर पाएँगे I हमारे देश के लोकतंत्र संविधान में हमारा विश्वास कम ही है I हम तो पूर्ण रूप से सामन्ती शासन के समर्थक है जिसमे निरंकुश राजा प्रजा को लूटकर मजे करता है I सामंत शाही में राजा के चमचे भी खूब लूटपाट करते है I देश के दलित पिछड़े तो बने ही हमारी सेवा करने के लिए है हम देश के संविधान के घोर विरोधी है जो देश के वंचितों दबे कुचले गरीबो को बराबरी से जीने के अधिकार देता है I हमारे जीने के उद्देश्य ये ही हम जैसो के संस्कार है I समय समय पर हम अपने बयानों से अपने इरादों का खुलासा भी कर देते है I

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top