Top
Breaking News
Home > Archived > #Ripamma : जे. जयललिता अम्मा का अभिनेत्री से मुख्यमंत्री बनने का जीवन सफर

#Ripamma : जे. जयललिता 'अम्मा' का अभिनेत्री से मुख्यमंत्री बनने का जीवन सफर

 Arun Mishra |  6 Dec 2016 4:45 AM GMT  |  नई दिल्ली

#Ripamma : जे. जयललिता अम्मा का अभिनेत्री से मुख्यमंत्री बनने का जीवन सफर

नई दिल्ली : 75 दिन से अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ रहीं 67 वर्षीय तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे. जयललिता का सोमवार देर रात निधन हो गया। इस के साथ ही तमिलनाडु की राजनीति में एक युग का अंत हो गया।

15 वर्ष की उम्र में फिल्मी कॅरियर शुरू करने वाली 66 वर्षीय मुख्यमंत्री के जीवन में अनेक उतार चढ़ाव आये। एक विद्यार्थी के तौर पर पढ़ाई में उनकी काफी रूचि रही, इसके बाद वह तमिल की सुप्रसिद्ध अभिनेत्री बनीं। 125 फिल्मों में लीड रोल करने वाली जयललिता की 119 फिल्में बड़ी हिट रही। वे कई शास्त्रीय नृत्यों में पारंगत थी। उन्होंने कई गीत भी गाये। फिल्मों से ऊब गयी और प्रेमसंबंध टूटने से टूट गयी। जिसके बाद उन्होंने आत्महत्या की कोशिश की।

जब राजनीति में आकर फिल्म अभि‍नेत्री जयललिता से अम्मा हुईं तो किसी से नहीं सोचा था कि लोगों के बीच उनको इतना बड़ा ओहदा मिलेगा। वक्त के साथ जयललिता बाकायदा बहुत बड़ा 'अम्मा ब्रैंड' बन गईं। शायद लोगों की जिंदगी के हर पहलू से जुड़ पाना ही जयललिता की लोकप्रियता की बड़ी वजह भी रहा। तमिलनाडु में उनके नाम पर आने वाली चीजों में रोजमर्रा के सामान से लेकर सिनेमा तक शामिल है।

जयललिता ने एम जी रामचंद्रन उर्फ एमजीआर के साथ 28 फिल्मों में काम किया। एमजीआर तमिल सिनेमा के सुपरस्टार थे और भारतीय राजनीति के सम्मानित नेताओं में थे। उनके साथ जयललिता भी राजनीति में आ गईं।

विधायक चुनी गयी पर अंग्रेजी समेत कई भाषाओं पर शानदार पकड़ और विद्वता के कारण एमजीआर ने उन्हें राज्यसभा भेज दिया। जयललिता ने 1984 पार्टी के प्रचार अभियान का नेतृत्व किया जब एमजीआर बीमार पड़े और अमेरिका में उनका इलाज चल रहा था। वह दिसम्बर 1987 में पूरी तरह तब उभरकर सामने आईं जब एमजीआर का निधन हो गया। वे उन्हें गुरू और पितातुल्य मानती थी और ऊपर से उस इंसान ने लगभग मौत से खींचकर उन्हें वापस जिंदा किया था। वे फिर से टूट गई थी। तेरह घंटे उनकी लाश के पास खड़ी रही थी।

राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने जताया शोक
जयललिता के दुखद निधन पर तहेदिल से शोक प्रकट करता हूं, राष्ट्र ने एक हस्ती को खो दिया है जिससे लाखों लोग प्रेम करते थे और उनकी प्रशंसा करते थे। - प्रणब मुखर्जी, राष्ट्रपति

जयललिता के निधन से काफी दुख हुआ, उनके निधन से भारतीय राजनीति में भारी रिक्ति पैदा हुई है। मैं उन अनन्त मौकों को हमेशा संजो कर रखूंगा, जब मुझे जयललिता जी के साथ बातचीत का मौका मिला। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे। उन्होंने जो कल्याणकारी कार्य किये, उसे याद रखा जायेगा।
- नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

जयललिता जयरामन
जन्म: 24 फरवरी 1948
जन्म स्थान : मैसूर में मांडया जिले के पांडवपुरा तालुक के मेलुरकोट गाव में
माता-पिता : वेदावती और जयराम वेदवल्ली
शिक्षा : प्रारंभिक शिक्षा चर्च पार्क कॉन्वेंट स्कूल और बिशप कॉटन गर्ल्स स्कूल में. उच्च शिक्षा चेन्नई के चर्च पार्क प्रेजेंटेशन कान्वेंट और स्टेला मारिस कॉलेज से।
फिल्मों में अभिनय : 15 साल की आयु में प्रमुख अभिनेत्री के रूप में खुद को स्थापित किया। श्रीधर की फिल्म 'वेन्नीरादई' से करियर शुरू. 300 से ज्यादा तमिल, तेलुगु, कन्नड़ और हिंदी फिल्मों में काम।

क्यों भगवान मानती है जनता
जयललिता को जनता भगवान की तरह पूजती है। 2014 में जब जयललिता को जेल भेजा गया तो उनके कई समर्थकों ने आत्महत्या कर ली थी। दरअसल में जयललिता की लोकप्रियता इसलिए भी ज्यादा है क्योंकि उनकी योजनाएं सीधे जनता से जुड़ती हैं। उनकी योजनाएं गरीबों के हित में हैं। और खास बात ये है कि जयललिता की योजनाओं को अम्मा ब्रांड कहा जाता है। नजर डालते हैं अम्मा ब्रांड पर--

अम्मा कैंटीन
1 रुपये में इडली सांभर और 5 रुपये में चावल. राज्य के सभी बड़े शहरों में अम्मा कैंटीन खुली।
अम्मा मिनरल वाटर
10 रुपये मिनरल वाटर की बोतल. चेन्नई समेत सभी प्रमुख शहरों में रेलवे स्टेशन-बस स्टैंड के आसपास बिकती है। बोतल पर अम्मा की तस्वीर।
अम्मा फार्मेसी
राज्य के प्रमुख अस्पतालों के पास खुले फार्मेसी में सस्ती दरों पर दवाएं उपलब्ध हैं।
अम्मा सीमेंट
गरीबों को घर बनाने के लिए सस्ते में सीमेंट बेचने की योजना को लोगों ने पसंद किया है।
बेबी केयर किट
अम्मा बेबी केयर किट में मच्छरदानी, मैट्रेस, साबुन, कपड़े, नैपकीन, बेबी शैंपू 16 सामान मुफ्त में दिये जाते हैं।
अम्मा मोबाइल
राज्य के स्वयं सहायता समूहों को फ्री में स्मार्टफोन. इसके अलावा अम्मा सॉल्ट, अम्मा सीड्स।
काफी कुछ मुफ्त में
गरीब औरतों को मिक्सर ग्राइंडर, लड़कियों को साइकिलें, छात्रों को स्कूल बैग, किताबें, यूनीफार्म, फ्री में मास्टर हेल्थ चेकअप।

पांच बार रहीं मुख्यमंत्री
24/06/1991-12/5/1996
14/05/2001-21/09/2001
2/03/2002-12/05/2006
29/02/2011-27/092014
23/05/2015- 5/12/2016

जयललिता को राजनीति विरासत में नहीं मिली थी। उन्होंने पहले फिल्मों में अपनी जगह बनायी और फिर राजनीति में अपनी मेहनत व मेधा का लोहा मनवाया। तमिलनाडु में सबसे कम उम्र की मुख्यमंत्री का खिताब उनके नाम है। विवादों में घिरीं, लेकिन हर चक्रव्यूह को तोड़ने का माद्दा उनमें था। विरोधियों की हर चाल को वह नाकाम करती रहीं। जया लंबे समय तक लोगों को याद आती रहेंगी।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it