Top
Breaking News
Home > Archived > जानिए, कौन हैं जयललिता की बेस्ट फ्रेंड शशिकला नटराजन, पार्टी की संभालेंगीं कमान

जानिए, कौन हैं जयललिता की 'बेस्ट फ्रेंड' शशिकला नटराजन, पार्टी की संभालेंगीं कमान

 Arun Mishra |  6 Dec 2016 8:42 AM GMT  |  चेन्नई

जानिए, कौन हैं जयललिता की बेस्ट फ्रेंड शशिकला नटराजन, पार्टी की संभालेंगीं कमान

चेन्नई : तमिलनाडु की मुख्यमंत्री और AIADMK प्रमुख जयललिता के निधन के बाद पनीरसेल्वम को मुख्यमंत्री बनाया गया है। पनीरसेल्वम जया के करीबी माने जाते थे। हालांकि पर्दे के पीछे पार्टी की कमान जया की 'बेस्ट फ्रेंड' मानी जाने वाली शशिकला नटराजन के हाथ ही रहने की संभावना है। शशिकला को तमिलनाडु की राजनीति में दूसरी सबसे दमदार महिला माना जाता है। आइए बताते हैं कि कौन हैं शशिकला और तमिलनाडु की राजनीति से वह कैसे जुड़ी हैं...

विडियो शॉप चलाती थीं शशिकला :
शशिकला का जन्म तंजौर जिले के मनारगुड़ी में हुआ था। शशिकला ने स्कूल की पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी थी। शशिकला की शादी तमिलनाडु सरकार में पब्लिक रिलेशंस ऑफिसर रहे नटराजन से हुई। फिल्मों की शौकीन शशिकला पैसे कमाने के लिए एक विडियो शॉप चलाया करतीं थीं। इतना ही नहीं वह आसपास के इलाकों में होने वाली शादियों की विडियो रेकॉर्डिंग भी किया करती थीं।

पति ने करवाई शशिकला-जया की मुलाकात :
शशिकला के पति नटराजन कडलोर जिले की कलेक्टर वीएस चंद्रलेखा के साथ काम करते थे। चंद्रलेखा तमिलनाडु के तत्कालीन सीएम एम. जी रामचंद्रन (एमजीआर) की करीबी थीं। एमजीआर फिल्म में अपनी को-स्टार जयललिता के भी करीबी थे। भीड़ को अपनी तरफ आकर्षित करने की जया की कला से एमजीआर बेहद प्रभावित थे। इसलिए उन्होंने अपनी पार्टी AIADMK में जया को जगह दी। कलेक्टर चंद्रलेखा ने नटराजन के कहने पर एमजीआर से शशिकला और जयललिता को मिलवाने का आग्रह किया। वहीं से दोनों की दोस्ती की शुरुआत मानी जाती है।

तीन दशकों से रहते थे साथ :
दोनों की दोस्ती इतनी पक्की हो गई कि साल 1988 से शशिकला जयललिता के घर पर साथ ही रहने लगीं। शशिकला के साथ उनका परिवार भी जया के घर पर ही शिफ्ट हो गया। इसके बाद शशिकला ही तय करतीं थीं कि कौन जया से मिलेगा। पार्टी से जुड़े बड़े फैसलों में शशिकला की भूमिका होती थी। इतना ही नहीं कई लोगों को पार्टी से निकालना और नियुक्त करना भी शशिकला का काम था।

दोस्ती में दो बार आई दरार :
जया और शशिकला की दोस्ती में पहली बार साल 1996 में दरार आई थी, जब AIADMK को चुनाव में हार का मुंह देखना पड़ा था। जयललिता ने इसके लिए शशिकला के परिवारवालों की बिगड़ी छवि को जिम्मेदार बताया था। उसके बाद साल 2012 में जया ने शशिकला को पार्टी से बाहर कर दिया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शशिकला के परिवारवाले उन्हें तमिलनाडु की सीएम बनाने की योजना बना रहे थे। नाराज जया ने शशिकला के परिवारवालों को अपने घर से बाहर तक कर दिया था। हालांकि बाद में शशिकला ने माफी मांगी और उन्हें पार्टी में दोबारा जगह मिली।


पर्दे के पीछे रहने की वजह :
मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो शशिकला को पार्टी की कमान तो मिलेगी लेकिन वह पर्दे के पीछे ही रहेंगी। असल में पार्टी का मानना है कि शशिकला में जया की तरह लोगों को बांधने की, साथ लेकर चलने की कला नहीं है। साथ ही पार्टी में ही शशिकला कई लोगों को स्वीकार्य नहीं है। इसलिए वह लोगों से संवाद भी कम रखेंगी। हालांकि पार्टी के अहम फैसले पनीरसेल्वम की जगह शशिकला ही लेंगी।
साभार : नवभारत टाइम्स

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it