Top
Home > Archived > अम्‍मा के निधन के बाद चिनम्‍मा संभाल सकती हैं AIADMK की कमान

'अम्‍मा' के निधन के बाद 'चिनम्‍मा' संभाल सकती हैं AIADMK की कमान

 Arun Mishra |  11 Dec 2016 12:34 PM GMT  |  चेन्नई

अम्‍मा के निधन के बाद चिनम्‍मा संभाल सकती हैं AIADMK की कमान

चेन्नई : तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता के निधन के बाद अन्नाद्रमुक AIADMK की कमान शशिकला संभल सकतीं हैं। जयललिता की निकटस्थ सहयोगी शशिकला को चिनम्मा भी कहा जाता है। इसका अर्थ है छोटी अम्मा या मौसी। शनिवार को कई नेताओं ने उनसे मिल कर जयललिता के दिखाए रास्ते पर पार्टी का नेतृत्व करने की गुहार लगाई।

दरअसल, लोकसभा उपाध्यक्ष एम थंबीदुरई ने अन्नाद्रमुक महासचिव पद के लिए शशिकला के नाम का समर्थन किया है। इसके एक ही दिन पहले तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम ने कहा था कि वी के शशिकला को पार्टी की बागडोर संभाल लेनी चाहिए। थंबीदुरई ने कहा कि शशिकला दिवंगत जे जयललिता को पार्टी मामलों और शासन के बारे में सुझाव दिया करती थीं। उन्होंने शशिकला से अनुरोध किया कि वह अन्नाद्रमुक की कमान संभाल लें।


उन्होंने कहा, ''इस मोड़ पर जब माननीय अम्मा (जयललिता) हमारे बीच नहीं हैं, सम्माननीय चिनम्मा (शशिकला) इकलौती ऐसी व्यक्ति हैं जो अन्नाद्रमुक का नेतृत्व करने में सक्षम हैं, जिनके पास अनुभव है।'' उन्होंने कहा कि शशिकला बीते 35 वर्षों से जयललिता के साथ थीं और उन्होंने कई बलिदान दिए हैं।

अपने आखिरी दिनों में जयललिता अपने परिवार के सदस्‍यों से नहीं जुड़ी रहीं। उनके परिवार के ज्‍यादातर सदस्‍यों के बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है। शशिकला और उनके परिवार के अन्‍य सदस्‍य ही जयललिता के नजदीक थे। शशिकला का जन्‍म 1957 में हुआ था। उनके चार भाई और एक बहन थी। उनका परिवार रईस नहीं था, मगर वे प्रभावी कल्‍लर समुदाय से आते हैं।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it