Home > इस बाप ने देश पर कुर्बान कर दिए दो बेटे ,पोता भी भेजा देश सेवा में

इस बाप ने देश पर कुर्बान कर दिए दो बेटे ,पोता भी भेजा देश सेवा में

 alok mishra |  2016-09-19 09:24:32.0  |  New Delhi

इस बाप ने देश पर कुर्बान कर दिए दो बेटे ,पोता भी भेजा देश सेवा में

उड़ी में हुए आतंकी हमले में सबसे ज्यादा शहीद होने वाले जवान यूपी और बिहार से है.वही बिहार के भोजपुर जिला का एक जवान शहीद हुआ है.

इस आतंकी हमले में शहीद हुए जवान अशोक सिंह का पूरा परिवार मातम में है.उड़ी में शहीद हुए अशोक सिंह के बड़े भाई भी इससे पहले शहीद हो चुके है.
अपने चाचा और पिता के नक़्शे कदम पर अशोक सिंह का बड़ा बेटा भी फिलहाल आर्मी में ट्रेनिंग ले रहा है.

अशोक मूल रूप से भोजपुर जिला के जगदीशपुर अनुमंडल के जितौरा बाजार अंतर्गत रक्टूटोला गांव के रहने वाले थे. अशोक के शहीद होने की खबर के बाद से ही गांव में मातमी सन्नाटा पसरा है. शहीद की पत्नी संगीता का रो-रो कर बुरा हाल है.

पति को गंवा देने वाली संगीता बार-बार पाकिस्तान के कायराना हरकत की निंदा कर रही है और सेना से कार्रवाई की मांग कर रही है तो बेसुध हुई शहीद की बेवा कह रही है कि जब सीमा पार से घर में घुस कर तुम्हारे भाई को मार डाला गया तो सेना के जवानों तुम क्यों चुप बैठे हो उन्हें भी ऐसा ही जवाब दो. अशोक की शहादत से गांव का हर कोई मर्माहत है.

27 साल में दो बेटों की दी शहादत

रक्टू टोला के रहने वाले अशोक के पिता जगनारायण सिंह की आंखो में एक बार फिर से 27 साल पुराना मंजर दिख रहा है. अपने दो बेटों को देश पर कुर्बान कर चुके पिता भी फूट-फूट कर रो रहे हैं. अशोक के शहीद होने से पहले उनके बड़े बेटे कामता सिंह भी 1989 में आतंकी हमले का शिकार हो चुके हैं.

देश की रक्षा में लगा है पूरा परिवार

अशोक सिंह का पूरा परिवार देश सेवा में जुटा है. बड़े भाई कामता सिंह ने देश के लिए शहादत दी तो बेटा विकास, भतीजे विनोद और ददन के अलावा उनके साले भी आर्मी में हैं. ससुर आर्मी से रिटायर कर चुके हैं जबकि अशोक सिंह के चाचा भी आर्मी में ही थे.

ट्रेनिंग ले रहे बेटे को मिली पिता के शहादत की खबर

शहीद अशोक कुमार सिंह का बड़ा बेटा विशाल फिलहाल सेना में ट्रेनिंग ले रहा है जबकि दूसरा बेटा विकास घर पर ही है. जिस वक्त पिता अशोक के शहीद होने की खबर आयी उस वक्त वो दानापुर स्थित रेजिमेंट में सेना की ट्रेनिंग ले रहा था. अशोक सिंह के बड़े भाई कमता सिंह भी राजस्थान में हुए आतंकी हमले में 27 साल पहले 1989 में शहीद हो गए थे.

Tags:    
Share it
Top