Top
Home > Archived > तीन शेड में रहते लेकिन जनता बना देती है इन्हें विधायक! क्या खास है इनमें?

तीन शेड में रहते लेकिन जनता बना देती है इन्हें विधायक! क्या खास है इनमें?

 Special Coverage News |  4 Dec 2016 7:10 AM GMT  |  आजमगढ़

तीन शेड में रहते लेकिन जनता बना देती है इन्हें विधायक! क्या खास है इनमें?
x

लखनऊ: समाजवादी पार्टी में ऐसे कई ईमानदार नेता मौजूद है जिनका नाम उनके जिले में ईमानदारी के लिए प्रसिद्ध है उनमे से एक नाम है, इसमें एक नाम आलमबदी का भी है जो आजमगढ जिले की निजामाबाद विधान सभा सीट से वर्तमान में समाजवादी पार्टी के विधायक है।


तीन बार विधायक होने के बाद भी इन्हें कोई अभिमान नहीं है। अभी भी टिनशेड के नीचे रहते हैं। अपनी फर्निचर की पुरानी दुकान पर अभी भी बैठते हैं। आलमबदी आजमगढ़ में सादगी का पर्याय है।आलमबदी आजमगढ़ के मूलतः निवासी है। राजनीति में आने से पहले बिजली विभाग में जूनियर इंजीनियर थे। इन्होंने नौकरी छोड़कर सिविल लाइन में एक वेल्डिंग की दुकान खोल ली और वहीं से विधायक बनने की कहानी शुरू हुई। विधान सभा चुनाव में ये अकेले चुनाव प्रचार को जाते हैं। इनका खर्चा भी बहुत कम है।


इनके बारे में सुभाष चन्द्र सिंह बताते है कि इनके पास गाडी नहीं दो बार विधायक रहने के बाद इन्होंने अब बोलेरो लिया है। सपा मुखिया मुलायम सिंह इन्हें खुद टिकट देते है। चुनाव प्रचार के समय सुबह 10 बजे निकल जाते है और शाम 5 बजे घर आ जाते है। चुनाव प्रचार के दौरान वोट नहीं मांगते केवल लोगों को अच्छी बातें बताते है लेकिन भारी मत से चुनाव जीतते हैं। इनके चुनाव जीतने का अंतर हजारों में होता है। मऊ जिले के भाजपा विधायक की हत्या हो गई थी लेकिन श्रधांजलि देने खुद मंच पर गए थे। इनका तर्क था कि दिवंगत विधायक थे विधायक होने के नाते वो मेरे भाई हुए।


काश इसी सोच के लोग देश में राजनीती में बढ़ें तो वास्तव में देश प्रगति कर सकता है, लेकिन यंहा तो गुंडागर्दी या अपने क्षेत्र के माफियाओं को ही विधायक और सांसद बनना है। काश सोच बदलो राजनीती बदलो, देश बदलो,खुद को बदलो।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it